October 20, 2011

Poem on Poverty (Poor People) in Hindi


(1)

पेट भर सकने का सपना 

निकलता है घर से पेट भर सकने की चाह में वह 
अनिश्चितता के मकड़जाल में बुनता रहता है सपना वह। 

कभी सपना उसका पार पा जाता है
और पेट भर सकने जितना वो कमा पाता है
कभी भूखे पेट ही संग उसके 
उसका सपना भी सो जाता है। 

हर बार उसके दिल में जगायी उम्मीदें 
नेता के भाषण, वादों, जीत और कुछ भी न बदलने के चक्र में
दम तोड़ती नज़र आती है। 
पदलोलुपता, महत्वाकांक्षा और भ्रष्टाचार के शासन तले
लात हर बार उसके पेट पर ही मारी जाती है। 

नहीं समझ पाता वो
बढती महंगाई में भी, शेयरों के भाव क्यों गिरते हैं?
उसके जीवन में जब कुछ भी नहीं बदलता
तो हर रोज ये नेता क्यों बदलते हैं?

आटे, दाल, आलू, प्याज के भावों पे नज़र डाल
कोसता है अपने भाग्य को वह मिट्टी का लाल। 

सूरज की किरणे जब सकपकाती सी 
घुस आती है कोठरी में उसकी
तो निकल पड़ता है फिर से वह
उसी अनिश्चितता की राह में
पेट भर सकने का सपना लिए। 

Monika Jain 'पंछी'
(20/10/2011)

(2)

गरीब बच्चे का सपना : पैसे 

काश हमें भी मिल जाते 
खूब सारे पैसे 
सच हो जाते फिर तो मन के 
सपने कैसे-कैसे।

खाते लड्डू, पेड़े, बर्फी 
रसगुल्ले की मिठाई 
चॉकलेट और टॉफी के संग 
करते मौज मनाई।

नए-नए खिलौने लाते 
हम तो करते मस्ती 
हाथ कटोरा लेकर फिर ना 
फिरते बस्ती-बस्ती।

कूड़े और कचरे में हम ना 
बचपन अपना खोते 
आधी सूखी रोटी खाकर 
भूखे हम ना सोते।

स्कूल पढ़ने जाते हम भी 
नया-नया बस्ता लेकर 
पढ़ लिखकर बन जाते अफसर 
नहीं मारता कोई ठोकर।

जाते पिकनिक, सैर-सपाटा 
कुल्लू और मनाली 
जेबे रहती गरम-गरम 
कभी ना होती खाली।

Monika Jain 'पंछी'
(22/01/2013)

Poem on Poverty in English

A Dream of Filling the Stomach

He leaves the home
in the hope of filling his stomach...
weaving the dreams
in the net of uncertainty.

Sometimes
his dreams come true
and he is able to earn
as much that can win his hunger.
At times his dreams gets sleep
with his empty venter.

Every time the hopes raised in his heart
appears to die in the cycle of
leader’s speeches, fake promises and victory.
Under the rule of corruption and ambitions
his stomach is kicked frequently.

He can’t understand!
How the shares fall while the inflation is rising?
When nothing is changed in his life
then why these leaders keep changing.

By putting eyes on the prices of
flour, lentils, potatoes and onions
The son of the soil curses his fate.
He walks out again on the path of uncertainty
carrying the dream of filling his stomach
When the nervous sun rays enters his closet.

Monika Jain ‘Panchhi’
(20/10/2011)

Poverty is a curse. A section of society in our country is not able to fulfill even their basic needs. The above poem is reflecting the pain of such people, who are even not sure to get the food to fulfill their hunger. Their dreams are confined to just calm their hunger. The worm of corruption eats the share of these poor people while executing the development programs and schemes. Because of the injustice and corruption, economic disparity is increasing day by day, that is a bad sign for our economy. There is a need to eradicate the poverty from the roots.

October 14, 2011

Inspirational Poems in English


(1)

Never Give Up in Life

Never give up in life man!
Never give up in life.

Life is the greatest gift
No one is here misfit.

We need to know our goal
and Nicely play our role.

Why to fear with dark
When there are millions stars.

Why to sink in despair
When hope resides everywhere.

What a path without a turn
What a flower without a thorn?

What a joy without sadness
What a goal without weariness?

Everything is for a reason
Like we need every season.

Face the hurdles with a smile
Never give up in this life.

Monika Jain 'Panchhi'
(05/2012)

(2)

Hopes in My Heart will Never Die

I am walking on a thorny path
My only love has broken my heart
My truth is being considered a lie
But hopes in my heart will never die.

My life has become a horrible question
I wish I could find any solution
Everyone is making me cry
But hopes in my heart will never die.

Don't know when the situation will change
Don't know who is taking revenge
I can say with deep sigh
Hopes in my heart will never die.

My luck is not in my favor
But I will continue my endeavors
With all the odds, I would survive
Hopes in my heart will never die.

Monika Jain 'Panchhi'
(05/2012)

(3)

Just Move On

O sailor!
Don't frighten with storms
Waves will come and go
You just move on.

Don't afraid of fire
Don't fear of thorns
Your self confidence
will defeat all storms.

If truth and courage are your weapons
Have faith, nothing bad will happen
If hope resides in your eyes
You can win all the fights.

Your dreams will come true
You will reach to destination
You will light up the whole world
with Your courage and determination.

Monika Jain 'Panchhi'
(14/10/2011)

Life is not like fairy tales. Life is strange and full of surprises. Life is not only black and white or can’t be defined by two sides of the coin. Life has lots of shades and aspects. Whatever we wish many times we don’t get . Whatever we get, we never thought of that. But still life is beautiful and this beauty gives us courage to face all the hurdles and challenges at every step of life. Just like the joy, happiness, success, pleasure and comfort...sorrow, defeat, misery, failures etc are also the parts of life. One should always be ready to face all the challenges with courage, patience and determination, as these problems are the test of our inner strength and character. One should never give up in life. One should never let the hopes die. One should fight till his/her last breath.

Motivational (Inspirational) Poem in Hindi

(1)


नाविक

तूफ़ानों से घबराकर नाविक! पथ से ना डिग जाना 
लहरें आती जाती रहती, तू बस बहते जाना। 

चाहे हो आंधी की बयार, चाहे हो तूफ़ानी वार
चाहे हो अग्नि की मार, चाहे हो काँटों की धार
तू न कभी घबराना!
लहरें आती जाती रहती, तू बस बहते जाना। 

सच और साहस को अपना शस्त्र बनाकर
दियें आशाओं के नयनों में जलाकर
आत्मविश्वास को हृदय में बसाकर
हर विषमता में धैर्य को अपनाकर
तू न कहीं रुक जाना!
लहरें आती जाती रहती, तू बस बहते जाना। 

आंधी जो आये तो तू , बन पर्वत टकरा जाना
सागर जो आये तो, बन कश्ती तू अड़ जाना
काँटों के पथ को राही, फूल समझ बढ़ते जाना
अंधियारी राहों में तू, बन दीपक जलते जाना
तू ना कहीं बुझ जाना!
लहरें आती जाती रहती, तू बस बहते जाना। 

पूर्वा भी आएगी, मस्ती भी छाएगी
तेरे ख्वाबों को पूरा करने, मंजिल तुझे बुलाएगी
तेरे साहस और हिम्मत से, सब सपने सच हो जायेंगे 
जमीं, आसमां और फिज़ा, तेरी जीत का जश्न मनायेंगे
तू बस जीत का गीत सुनाना!
लहरें आती जाती रहती, तू बस बहते जाना। 

Monika Jain 'पंछी' 
(14/10/2011)

(2)


मुश्किलों को पार कर

चल रही है ये धरा 
चल रहा है ये गगन 
एक क्षण भी ना रुके जो 
चल रही है वो पवन 
तू भी ना रुकना कभी 
ऐ मुसाफिर हार कर 
सांस जब तक चल रही है 
मुश्किलों को पार कर। 

दर्द के बादल हैं छाये 
गम के ये साये रुलाये 
पर इन्हें तू ना बनाना 
बैठ जाने का बहाना 
गम के इन सायों में डूबा 
तू समय बेकार ना कर 
साँस जब तक चल रही है 
मुश्किलों को पार कर।

Monika Jain 'पंछी' 
(29/01/2013)

(3)

कभी-कभी 

खयालों के समंदर में खोयी सोचती हूँ कभी-कभी -

क्यों रौशनी हर रात अंधेरे में समा जाती है?
क्यों ओस की बूंदे भाप बनकर उड़ जाती हैं?
जब लौटना ही है किनारों पे आकर
तो क्यों लहरें बार-बार थपेड़े खाती हैं?

सवालों के ज़वाब कुछ यूं भी मिलते हैं कभी-कभी - 

जो न होता अँधेरा तो रौशनी को कौन सराहता?
जो न उड़ती ओस तो उसकी सुन्दरता कौन निहारता?
जो न लौट कर आती लहरे किनारों पे फिर से
तो तूफानों में फँसा नाविक हौंसला कहाँ से पाता ?

Monika Jain 'पंछी'
(17/04/2011)

October 12, 2011

Poem on Humanity in Hindi

जरुरत है तो बस एक इंसान की 

न मज़हब की न भगवान की
जरुरत है तो बस एक इंसान की। 

गूँज रही चीखों और चीत्कारों को जो सुन पाये
टूट रहे सपनों के टुकड़ों को जो चुन पाये
अंधियारी राहों में खोयी आशाएं जो बुन पाये
ऐसे दयावान की। 

न मज़हब की न भगवान की
जरुरत है तो बस एक इंसान की। 

कदम-कदम पे सरहद की दीवारों को जो फोड़ सके
जाति, धर्म, समाज की दरारों को जो जोड़ सके
जंग लगे दिल के दरवाजों के ताले जो तोड़ सके
ऐसे ऊर्जावान की। 

न मज़हब की न भगवान की
जरुरत है तो बस एक इंसान की। 

इक प्यासे की प्यास बुझाने को जो पानी बन जाये
डूबे सपने पार लगाने को जो कश्ती बन आये
निर्बल का मान बचाने को बन रक्षक जो तन जाये
ऐसे दिल के धनवान की। 

न मज़हब की न भगवान की
जरुरत है तो बस एक इंसान की। 

नफरत, शोषण, लालच, हिंसा का तांडव जो रोक सके
आतंकवादी राहों पे चलते कदमों को टोक सके
दहशतगर्दों की दहशत को बन लाठी जो ठोक सके
ऐसे शक्तिमान की। 

न मज़हब की न भगवान की
जरुरत है तो बस एक इंसान की। 

निजी स्वार्थ की सीमाओं से परे जो सोच सके
खून से लथपथ मानवता के दामन को पोंछ सके
जिससे बिखरी खुशियों को भर सारी दुनिया नाच सके
ऐसे करुणानिधान की। 

न मज़हब की न भगवान की
जरुरत है तो बस एक इंसान की। 

Monika Jain 'पंछी'
(12/10/2011)

Poem on Humanity in English

(1)

Humanity is Going on a Wrong Path

The fire of hatred is burning in our hearts
Envy, malice and hate are doing us apart
Life is short for even love
But humanity is going on a wrong path.

By favoring racism and regionalism
We are losing our identity
Neither 'Hindu' nor 'Muslim' nor 'Christians'
First we should become the followers of humanity.

The business of religion is deceiving us at last
The politics of criminals is flourishing very fast
Life is short for even love
But humanity is going on a wrong path.

The blood of innocent people
is being shed in the game of politics
For the sake of vote bank
Such issues prove boon for the opportunist.

These things are bothering me day and night
I wish! soon peace will take place in my heart
Life is short for even love
But humanity is going on a wrong path.

Monika Jain 'Panchhi'
(10/09/2013)

(2)

We Need A Human

We don't need any God or religion
We need a human filled with love and affection.

Who is compassionate and moralistic
Yet strong and energetic.

Who can listen the suppressed screams
Who can collect the broken dreams.

Who can show the path in darks
Who can break the border walls.

Who can find the lost hopes
Who can break the heart locks.

Who can stop the violence and threats
Who can think beyond his interests.

Monika Jain 'Panchhi'
(12/10/2011)