July 3, 2012

Poem on Save Girl Child in Hindi


कलियों को खिल जाने दो

(1)

कलियों को खिल जाने दो
मीठी ख़ुशबू फ़ैलाने दो
बंद करो उनकी हत्या अब
जीवन ज्योत जलाने दो।

कलियाँ जो तोड़ी तुमने तो
फूल कहाँ से लाओगे?
बेटी की हत्या करके तुम
बहु कहाँ से लाओगे?

माँ धरती पर आने दो
उनको भी लहलाने दो
बंद करो उनकी हत्या अब
जीवन ज्योत जलाने दो।

माँ दुर्गा की पूजा करके
भक्त बड़े कहलाते हो
कहाँ गयी वह भक्ति जो
बेटी को मार गिराते हो।

लक्ष्मी को जीवन पाने दो
घर आँगन दमकाने दो
बंद करो उनकी हत्या अब
जीवन ज्योत जलाने दो।

Monika Jain 'पंछी'
(07/2012)

(2)

वंश-वंश करते मानव तुम
वंश बेल को काट रहे हो
एक फल की चाहत में तुम
पूरा बाग उजाड़ रहे हो।

फूल रहे ना धरती पर तो
फल तुम कैसे पाओगे?
अंश काटकर अपना तुम
कैसे वंश बढ़ाओगे?

उम्र की ढ़लती शाम में जब
बेटा खड़ा ना होगा साथ
याद करोगे अंश को अपने
खुद मारा जिसको अपने हाथ।

न कुचलों नन्हीं कलियों को
उनको भी जग में आने दो
बनकर फूल खिलेंगी एक दिन
जीवन उनको पाने दो।

Monika Jain 'पंछी'
(07/2012)

Feel free to add your views about these hindi poems on Save Girl Child.

July 2, 2012

Save Girl Child Essay in English

Live and Let Live

Life is considered as an expression of God. Everyone wants to live and we don't have any right to take anyone's life then how can we kill a totally defenseless and innocent being? Mother's womb is considered as the safest place on this earth for a child but polythene bags stuffed with the body parts of female fetuses and newly born babies are the question mark on this statement.

India an IT superpower and one of the fastest developing country represent one of the most adverse Child Sex Ratio (CSR) amongst the southeast asian countries. The child sex ratio in the country is now 914 females per 1,000 males, said to be the lowest since Independence. The government has banned prenatal sex determination tests since 1996 but, as the data shows, this hasn't been very effective. According to a study, up to 8 million unborn females may have been killed either before or immediately after birth during the last ten years. Thus the number of girls is continuously decreasing.

The process of abortion is a painful reality. Sometimes doctors have to cut the baby into several pieces in order to get it out. The larger parts are cut into smaller pieces and spooned out piece by piece and then discarded. American Portrait Films educational presentation 'The Silent Scream' is a film which depicts the story of abortion. It shows how the fetus during abortion attempts to defend themselves. Mother also feels this hustle and bustle of the baby who is being killed.

Murder is murder whether the person killed is 60 years old, 6 years old, 6 months old or a 6 weeks fetus. The unborn baby is also a human being. He/she is not a potential human being rather he/she is a human being with potential. Any of them can become Mother Teresa, Kalpana Chawla, P. T. Usha or Lata Mangeshkar.

The possible causes of this crime are poverty, ignorance of family planning, some traditions and dowry system etc. But instead of removing these causes we are involving ourselves in another crime of killing unborn daughters. Is it reasonable? Why don't we kill the demon of dowry? Why don't we make people aware about family planning? Why innocent beings have to suffer for our doings? How a doctor who has taken an oath to preserve life can perform abortion?

It is said that God created mothers because he could not be present everywhere but I am failed to understand how a mother (in some cases where she is not helpless) can be so ruthless and vulnerable?

Monika Jain 'Panchhi'
(07/2012)

Feel free to add your views about this essay on save girl child.

July 1, 2012

Poem on Raksha Bandhan (Rakhi) in Hindi

 (1)

राखी लाये खुशियाँ पूरी

कुमकुम रोली और मिठाई
राखी की थाली सज आई
बहन आज फूली न समाई
संग राखी खुशियाँ घर आई।

बांध हाथ राखी का धागा
और लिया भैया से वादा
भैया मुझको भूल न जाना
जीवन भर तुम साथ निभाना।

भैया बोला बहना प्यारी
तू है मेरी राजदुलारी
आंच न आने दूंगा तुझपे
ये मेरा है वादा तुझसे।

बना रहे ये प्यार सदा
रिश्तों का अहसास सदा
कभी ना आये इसमें दूरी
राखी लाये खुशियाँ पूरी।

Monika Jain 'पंछी'
(07/2012)

(2)

राखी

कच्चे धागों से बनी पक्की डोर है राखी
प्यार और मीठी शरारतों की होड़ है राखी।

भाई की लम्बी उम्र की दुआ है राखी
बहन के प्यार का पवित्र धुआं है राखी।

भाई से बहन की रक्षा का वादा है राखी
लोहे से भी मजबूत एक धागा है राखी।

जांत-पांत और भेदभाव से दूर है राखी
एकता का पाठ पढ़ाती नूर है राखी।

बचपन की यादों का चित्रहार है राखी
हर घर में खुशियों का उपहार है राखी।

रिश्तों के मीठेपन का अहसास है राखी
भाई-बहन का परस्पर विश्वास है राखी।

दिल का सुकून और मीठा सा ज़ज्बात है राखी
शब्दों की नहीं पवित्र दिलों की बात है राखी।

Monika Jain 'पंछी'
(07/2012)

(3)

रहे न बचपन के अहसास

रहे ना बचपन के अहसास
रही ना अब रिश्तों में मिठास
रक्षाबंधन का पर्व रहा ना
पहले जैसा खास।

भाई है अब व्यस्त बहुत
बहना को रही ना फुर्सत
राखी के कच्चे धागों की
अब ना किसी को जरुरत।

रहे ना रिश्तों में ज़ज्बात
रही ना पहले जैसी बात
रक्षाबंधन अब ना लाता
खुशियों की सौगात।

रफ़्तार भरा है ये जीवन
पल भर भी ठहरना नामुमकिन
राखी आती जाती रहती
पर ना थमते भाई-बहन।

लौटा दो बचपन का वो प्यार
रक्षाबंधन का त्यौहार
खट्टी मीठी नोंक-झोंक और
प्यार भरी तकरार।

Monika Jain 'पंछी'
(07/2012)

Feel free to add your views about these hindi poems on Raksha Bandhan or Rakhi, the festival of Brothers and Sisters.