December 11, 2013

Women (Women's Day) Quotes in Hindi

Women Quotes

  • 05/01/2017 - मनुष्य जीवन की सार्थकता इसी में है कि हम मनुष्य होने के भाव से ऊपर उठ सकें। उससे पहले स्त्री स्त्री होने के भाव से और पुरुष पुरुष होने के भाव से...लेकिन यहाँ तो अभी तक कपड़ा पुराण ही चल रहा है।  
  • 30/11/2016 - बात आज की नहीं है, सदियों से यही हो रहा है। स्त्री का मुंह बंद करवाना हो, उससे बदला लेना हो, उसके प्रति अपनी नफ़रत उगलनी हो...तथाकथित पुरुषों के पास कुछ गिने-चुने तरीके होते हैं : उसका बलात्कार कर दो, उसे बदनाम करने की धमकी दे दो या उसके चरित्र की बखिया उधेड़ डालो। लेकिन प्यारे तथाकथित पुरुषों! Who the hell you are to define our character? तुम्हारा दिया चरित्र प्रमाण पत्र अपने पास रखो और कागज़ पर बनाया हो तो रद्दी में बेचकर थोड़े छुट्टे इकट्ठे कर लो। इससे ज्यादा तो कोई कीमत नहीं ही है उसकी। 
  • 09/03/2015 - आज कुछ लड़कियों ने कुछ लड़कों की लगातार घूरने और पीछा करने की वही परंपरागत समस्या शेयर की। पेरेंट्स को इसलिए नहीं बता सकती क्योंकि पेरेंट्स को बतायेंगी तो घर से निकलना बंद या कम करवा देंगे। उन्हें जो समाधान सुझाना था वह तो सुझा दिया, पर कब से यही सोच रही हूँ कि ये घूरने वाले लड़कों की दुर्बुद्धि तो समझ आती है, पर ये उल्टी गंगा बहाकर ऐसे असामाजिक तत्वों को बढ़ावा देने वाले पेरेंट्स की समझ समझ नहीं आती। चिंता और सतर्कता जायज है लेकिन लड़कियों के घूमने पर पाबंदी तो समाधान नहीं। 
  • 07/03/2015 - अच्छी-खासी, भोली-भाली, गंभीर-मासूम टाइप पोस्ट पे थर्ड ग्रेड शायरी चिपकाकर इश्क फरमाने वालों! भगवान करे तुम्हें कोई ऐसा मिले जो सुबह से शाम, शाम से रात और फिर रात से सुबह तक इतनी शायरी सुनाये, इतनी शायरी सुनाये कि तुम ये जगह-जगह शायरी चिपकाना जन्मजन्मान्तरों तक भूल जाओ। 
  • 30/11/2014 - अभी किसी का कमेंट देखा 'अब लड़कियां हमें धर्म सिखाएंगी? ' अब उस महाशय को कौन बताये कि खाने का पहला निवाला गले में उतारना भी उसे किसी लड़की ने ही सिखाया था। बल्कि नौ महीने उसका भार वहन कर इस दुनिया को देखने का मौका भी उसे किसी लड़की ने ही दिया था। पुरुष के योगदान को नकार नहीं रही। पर ऐसी सोच का क्या किया जाए? 
  • 01/06/2014 - अक्सर यह पोस्ट पढ़ने को मिलती है कि लड़कियों की तो hi, hello, hru पर भी 100-200 लाइक्स आ जाते हैं। कौन होती हैं ये लड़कियां? हमने तो नहीं देखी कभी। और होती भी है तो ये लाइक करने वाले कौन होते हैं? लड़को को ये क्यूँ लगता है कि लड़कियों को सब यूँ ही आसानी से मिल जाता हैं? एक बार पेज पर 8000+ लाइक्स देखकर एक लड़का बोला कि तुम लड़की हो इसलिए तुम्हारे इतने सारे फॉलोअर्स हैं। सच में? अरे भाई! तुम बस यही क्यों देखते हो कि लड़की है। मेहनत और गुण नहीं दिखाई देते तुम्हें? मैंने तो हमेशा यही महसूस किया है कि लड़की होना बहुत मुश्किल होता है। अगर आप अपने सिद्धांतों से समझौता नहीं करते तो आपके लिए रास्ते बहुत मुश्किल होते हैं, बहुत ज्यादा। मेरी कभी यह तमन्ना तो नहीं रही कि काश! मैं लड़का होती, पर हाँ मैं इतना अच्छे से जानती हूँ कि अगर मैं लड़का होती तो मेरी ज़िन्दगी अभी जो है उससे बहुत आसान होती, बहुत ज्यादा आसान। 
  • 02/06/2014 - कमाल है! क्या ये भी कोई रूल होता है कि लड़की लड़कों को फ्रेंड रिक्वेस्ट नहीं भेज सकती? मुझे तो जिनका भी लेखन प्रभावित करता है...मैं चाहे उन्हें जानती हूँ...चाहे नहीं जानती हूँ..ऐड कर लेती हूँ। ये तो कभी सोचती ही नहीं कि वो लड़का है या लड़की, और ये भी नहीं सोचती कि मैं लड़की हूँ। 
  • 31/05/2014 - किसी के पति का किसी और महिला से अफेयर है तो खुद पत्नी द्वारा भी सबसे पहले दोष उस दूसरी महिला को दिया जाएगा। उसे डायन, कुल्टा और न जाने क्या-क्या कहा जाएगा। वह महिला बेशक गलत है, पर सबसे पहला अपराधी तो यहाँ पर खुद उसका पति है। इसी तरह जब शादी करके ससुराल में आई कोई लड़की अगर माँ-बेटे के रिश्तों में फूट डालने का काम करती है और इसमें कामयाब भी हो जाती है, तो यहाँ माँ द्वारा सारा दोष बहु को दिया जाता है, पर यहाँ भी बेटे की गलती ज्यादा है। मेरा मानना है कि अगर अपना ही सिक्का खोटा हो तो दूसरे को दोष देना व्यर्थ है...और अगर हम खुद बुराई को पोषित करने में भागीदार हैं तो हमें हक़ नहीं बुराइयों के खिलाफ़ आवाज़ उठाने का। 
  • 11/12/2013 - कई लोग कहते हैं, आजकल लड़कियां भी कम नहीं है। सहमत हूँ...कम नहीं है, पर हर अपराध में लड़कों का प्रतिशत लड़कियों से कई गुना ज्यादा है...बहुत ज्यादा। कल ही अख़बार में एक खबर पढ़ी कि एक लड़की की सहेली के भाई ने उसकी शादी वाले दिन जब वह तैयार होने के लिए पार्लर के यहाँ गयी उस पर एसिड फेंक दिया...कारण उसका उस लड़के के शादी के प्रपोजल को एक्सेप्ट न करना। ऐसी न जाने कितनी ख़बरों से अखबार भरे पड़े हैं। मार-पीट, बलात्कार, हत्या, एसिड अटैक, इस्तेमाल करके छोड़ देना, छेड़छाड़, फब्तियां कसना और न जाने कितनी तरह से महिलाओं का उत्पीड़न मामूली सी बातें है, जिन्हें लड़कों ने अपना एकाधिकार क्षेत्र समझ रखा है। 99 % ऐसे मामले लड़कों के नाम पर है, और अगर कोई इक्की-दुक्की लड़की भी ऐसा कुछ कर देती है तो लड़कों का ईगो हर्ट हो जाता है, उनके एकाधिकार का हनन हो जाता है। इसलिए सब चिल्लाने लगते हैं कि लड़कियां भी कम नहीं है। अगर लड़कियां भी ऐसा करती हैं तो वे बिल्कुल अपराधी हैं, सजा की हकदार हैं। सब लड़के एक से नहीं होते ये भी मानती हूँ, पर कुछ भी कहने से पहले आंकड़ों पर एक नज़र जरुर डालिए। 
  • आज जब महिला पुरुष समान अधिकारों की बात हो रही है। ऐसे मैं न केवल लड़के और लड़कियों को समान रूप से आर्थिक आत्मनिर्भरता के लिए तैयार करने की जरुरत है, बल्कि उन्हें घर और बाहर की जिम्मेदारियों के प्रति भी समान रूप से तैयार करना जरुरी है। 

Monika Jain ‘पंछी’

December 1, 2013

World Aids Awareness Day Story in Hindi

अंधेरों में गुम न हो रोशनी

कुछ महीनों पहले ही इस नए शहर में शिफ्ट किया है। घर के पास ही बच्चों का एक पार्क है। शाम होते ही खेलते हुए बच्चों का शोर चिड़ियों की चहचहाहट की तरह हवा में घुल जाता है। बच्चों को इस तरह खिलखिलाकर खेलते हुए देखना मुझे बहुत सुकून देता है। अक्सर जब काम करते-करते थक जाती हूँ तो पार्क की ओर अपना रुख कर लेती हूँ। कभी बच्चों से बातें, कभी उनके साथ खेलना, कभी यूँ ही उन्हें बैठे-बैठे निहारना और अपने बचपन में खो जाना मुझमें एक नयी ही ऊर्जा भर देता है।

पर कल शाम पार्क से लौटने के बाद मन बहुत बेचैन था। तरह-तरह के सवाल मन में उठ रहे थे और बार-बार उस मासूम बच्ची का चेहरा मेरे दिल और दिमाग में उभर रहा था। करीब 7-8 साल की होगी वो। पहली बार ही उसे पार्क में देखा था।

काम करने में मन नहीं लग रहा था सो मेरे कदम पार्क की ओर बढ़ गए। पार्क में सारे बच्चे ग्रुप्स बनाकर खेल रहे थे। कोई पकड़म-पकड़ाई, कोई रुमाल झपट्टा तो कोई आँख मिचौनी। कुछ बच्चे पार्क के झूलों में झूल रहे थे, कुछ फिसल पट्टी पर फिसल रहे थे। सब अपने में मग्न थे। मैं भी उन्हें देखते-देखते टहल रही थी, तभी सहसा पार्क के एक कोने में नज़र पड़ी जहाँ एक प्यारी सी बच्ची अकेले ही मिट्टी से खेल रही थी।

उसके बार-बार आँखों पर गिरते बाल, मिट्टी से सने हाथों से उन्हें हटाने की कोशिश, बीच-बीच में खेलते हुए बच्चों को बड़ी उम्मीद भरी नजरों से देखते हुए मुस्कुरा जाना और फिर उदास होकर मिट्टी के घरौंदे बनाने में लग जाना, यह सब मुझे उसकी ओर खींच रहा था। ऐसा महसूस हुआ जैसे वह बच्चों के साथ खेलना चाह रही है पर कुछ सहमी हुई सी है।

मुझे लगा नयी बच्ची होगी, सबके साथ घुलने-मिलने में शर्मा रही होगी सो उससे दोस्ती करने और सबसे उसकी दोस्ती करवाने की सोचकर मैंने उसकी ओर रुख किया। मुझे अपनी और आता देखकर उसने खेलना एकदम से बंद कर दिया और सहमी हुई नज़रों से मुझे देखने लगी। मैंने उसके पास बैठकर ज्यों ही उसके सर पर प्यार से हाथ फेरा। वह एक दम हड़बड़ाहट में उठ खड़ी हुई। उसके हाथों की मिट्टी चारों ओर बिखर गयी। मैं कुछ बोलती इससे पहले ही वह डरते हुए वहां से तेजी से दौड़ कर भाग गयी।

‘बच्चे मूडी होते हैं। अजनबी हूँ सो घबरा गयी होगी।’, यह सोचते हुए मैं वापस अपनी जगह पर आ गयी। पर ना जाने क्यूँ उसके बारे में जानने की जिज्ञासा में मैंने एक बच्चे को आवाज़ दी और अपने पास बुलाया। पार्क के कई बच्चों से दोस्ती हो गयी थी। बच्चा बुलाते ही दौड़ा-दौड़ा चला आया।

‘अभी थोड़ी देर पहले वह छोटी सी लड़की जो उस कोने में खेल रही थी, क्या तुम उसे जानते हो? मैंने उसे पहले कभी यहाँ देखा नहीं, क्या वह यहाँ नयी है? तुम लोग उसे अपने साथ क्यूँ नहीं खिला रहे थे और वह इतना डर क्यों रही थी?’ एक ही सांस में न जाने कितने सवाल पूछ डाले मैंने।

बच्चा थोड़ा सकपकाया हुआ बोला, ‘ रोssशनी, क्या आप रोशनी के बारे में पूछ रहे हो दीदी? वह जो मिट्टी में खेल रही थी? मैंने सहमति में सर हिला दिया और कहा, ‘हाँ! मैं उसके पास भी गयी पर वह भाग कर चली गयी।’

बच्चा घबराया हुआ सा बोला, ‘दीदी! आपको उसके पास नहीं जाना चाहिए था। मम्मी कहती है, उसे कोई भयंकर बीमारी है। हम उसके साथ खेलेंगे तो वह हमें भी बीमार कर देगी, इसलिए हममें से कोई भी उसके पास नहीं जाता। कल भी वह हमारे ग्रुप के पास आ गयी थी तो हमने उसे भगा दिया। आप भी उसके पास मत जाया करो।’ यह कहकर बच्चा तो दौड़ कर चला गया और अपने ग्रुप में शामिल होकर फिर से खेलने लगा पर मेरे दिल और दिमाग में न जाने कितने सवाल छोड़ गया।

मैं एकदम निश्चेत सी बैठे कभी उस ग्रुप को तो कभी उस कोने को देखती रही जहाँ अब रोशनी की जगह बस अँधेरा ही अँधेरा नज़र आ रहा था।

मैंने आसपास के लोगों से मालूम किया तो पता चला उसके मम्मी, पापा और उसे एड्स है। सब लोग उसके परिवार से दूर रहते हैं। यहाँ तक कि उन पर कॉलोनी को खाली करने का दबाव भी बनाया जा रहा है।

मेरे मन में बहुत से सवाल उठे, ‘इतनी सी बच्ची जो बिल्कुल निर्दोष है उसे इतनी भयानक बीमारी? ऊपर से इस तथाकथित पढ़े लिखे समाज की अज्ञानता और संकीर्णता से भरी यह मानसिकता जो पीढ़ी दर पीढ़ी थोपी जा रही है। आखिर क्यों?’

मैंने तुरंत निश्चय किया कि उस परिवार की मदद करुँगी और एड्स को लेकर जो भी भ्रम और भ्रांतियां लोगों के दिमाग में हैं, उसे दूर करुँगी। उन्हें बताऊँगी कि एड्स छूने से नहीं होता। साथ-साथ उठने-बैठने, खाना खाने, एक दूसरे के कपड़े इस्तेमाल करने से भी एड्स नहीं फैलता। बल्कि एड्स के मरीज के प्रति नम्र व्यवहार जरुरी है ताकि उसकी हिम्मत और हौंसला बना रहे और वह भी एक आम जीवन जी सके। रोशनी की किरणें उसके जीवन में सदा बिखरी रहे और कभी अँधेरा न हो।

Monika Jain ‘पंछी’
(01/12/2013)

World Aids Day is held on the 1st december every year. Let we unite to fight against aids and show our support towards people suffering from aids.

World HIV Aids Awareness Day Poem in English


Why this Cruelty?

A little girl was playing alone in a garden
I went to her attracted by her innocence
But she was scared with my presence. 

I caressed her head with affection 
But she got up suddenly and ran away in fear 
'Children are moody' 
considering this I returned from there.

From a group of kids playing in the garden 
a child came to me 
Pointing towards that little girl 
he told me - 

Sister! never touch that girl 
She is suffering from aids 
Playing with that girl is not
permitted by our parents.

After saying this 
that child ran to play again 
But his statement left 
so many questions in my brain.

Who made no mistake 
Why this cruelty with that innocent?
and Why this narrow mindedness of society 
to this extent?

Monika Jain 'Panchhi'
(01/12/2013) 

The above poem shows the ignorance and narrow mentality of our society, where HIV positive people are seen by hatred and they are neglected, abandoned and ignored. It’s a foolish behavior. As HIV is not transmitted by casual contacts like touching, holding and shaking hands, hugging, kissing, working and playing together, coughing, sneezing, spitting, sharing food, clothes, toilets etc. 

HIV is transmitted through unprotected sex with an infected partner, from an infected mom to her unborn child, from transfusion of HIV infected blood and blood products and from infected needles and syringes.

Aids infected people need more care and affection. So we should treat them friendly and We should bring them in the mainstream of our society so that they never feel isolated and ignored and can bravely fight with this disease.

November 29, 2013

Moral Story of a Mischievous Rat in Hindi

डालू चूहे का नया जन्म
(नन्हें सम्राट में प्रकाशित)

डालू चूहा बड़ा ही शैतान था। दूसरों को परेशान करने में उसे बड़ा मजा आता था। अपने चमकीले, सफ़ेद, पैने दांतों पर उसे बड़ा घमंड था। अपने नुकीले दांतों से वह कभी किसी के कपड़े कुतर आता तो कभी खाने-पीने की चीजों की बर्बादी कर देता। चंपक वन में किसी के भी घर में कोई भी नया सामान आता और डालू को उसकी ख़बर लग जाती तो वह पहुँच जाता अपनी शरारत करने। शातिर इतना था कि कभी किसी के भी पकड़ में नहीं आता और बस हीही करके दौड़ जाता।

चंपक वन के सभी जानवर डालू चूहे की हरकतों से बहुत परेशान थे। डालू के माता-पिता भी रोज-रोज के उलाहनों से तंग आ चुके थे। वे डालू को कभी प्यार से समझाते और कभी डांटते पर उस पर किसी भी बात का कोई असर नहीं पड़ता। एक छोटे से चूहे ने सबकी नाक में दम कर रखा था।

शाम को चौपाल पर चर्चा चल रही थी। डालू की बात आई तो गोलू खरगोश बोला, ‘अभी कुछ ही दिन पहले डालू छुपके से मेरे कपड़ों की दूकान में आया और हजारों का नुकसान करके चला गया।’

हीरू हिरण ने कहा, ‘आज मैं अपने खेत में सिंचाई कर रहा था तब ना जाने कब डालू ने नली को बीच में से काट दिया और बहुत सारा पानी बेकार चला गया। मैं उसके पीछे दौड़ा पर हँसते-हँसते जाने कहाँ ओझल हो गया।’
‘मेरी मिठाई की दूकान में तो वह कभी भी आ धमकता है और बहुत सारी मिठाई खाकर और बर्बाद करके चला जाता है। उसे पकड़ने के लिए पिंजरा भी रखा पर शैतान कभी भी पकड़ नहीं आता।’ मोलू कछुएं ने गुस्से में कहा।

सबकी बातें सुनकर भोलू भालू परेशान हो गया। कुछ ही दिन बाद उसकी बेटी की शादी थी। पिछली बार मोंटी बन्दर की शादी में उसने सारे नए-नए कपड़े कुतर डाले थे। इस बार वह कोई गड़बड़ ना कर दे यही सोचकर भोलू भालू चिंता में पड़ गया।

गिन्नी लोमड़ी भोलू भालू की चिंता को भांप गयी। वह बोली, ‘काका ! आप परेशान ना हों। हम मिलकर जल्द ही इस समस्या का कोई हल निकाल लेंगे। डालू के माता-पिता का हम सुंदरवन के निवासियों पर बहुत अहसान है। कई बार वे शहर से आये शिकारियों के जाल को काटकर हमें मुक्त कराते हैं। इसलिए हम डालू के खिलाफ कोई सख्त कदम उठाकर या उसे कड़ी सजा देकर उन्हें दुखी नहीं कर सकते पर डालू को सबक सिखाना बहुत जरुरी है और इसके लिए मैंने कुछ सोचा है।’

गिन्नी ने सभी को अपनी योजना बताई। सभी ने उसकी योजना से सहमति जताई। डालू के माता-पिता को भी इस बारे में बता दिया गया।

योजना के अनुसार दो दिन के बाद गज्जू हाथी के जन्मदिन का उत्सव मनाया जाना था। जिसके लिए एक बहुत बड़ा आकर्षक और सुन्दर केक बनाया गया। इस केक को बनाने में गोंद जैसे एक चिपकाने वाले पदार्थ का उपयोग किया गया। सभी को पता था जैसे ही डालू को खबर मिलेगी कि चंपक वन में अब तक का सबसे बड़ा और स्वादिष्ट केक बनाया जा रहा है तो वह खुद को रोक नहीं पायेगा और केक को खाने और ख़राब करने जरुर आएगा।

डालू को जब केक के बारे में पता चला तो वह पार्टी शुरू होने के कुछ देर पहले ही आयोजन स्थल पर पहुँच गया। इतना बड़ा और सुन्दर केक देखकर उसका मन ललचा गया और खुराफात भी सूझने लगी। वह केक काटने से पहले ही छुपके से केक पर चढ़ गया और उसे खाने लगा। जैसे ही उसने केक खाना शुरू किया तो कभी उसके हाथ तो कभी उसके पाँव केक में चिपकने लगे। वह एक पाँव छुड़ाता तो दूसरा चिपक जाता और दूसरा छुड़ाता तो पहला। यहाँ तक कि उसके दांत भी आपस में चिपकने लगे जिसकी वजह से वह मदद के लिए चिल्ला भी नहीं पा रहा था।

धीरे-धीरे सभी मेहमान आने लगे। डालू बस धीमी सी आवाज़ में चींचीं कर पा रहा था, पर जान बूझकर कोई भी उस ओर ध्यान नहीं दे रहा था। सभी आपस में बातचीत करने में व्यस्त थे। एक ओर भूख-प्यास और दूसरी ओर केक से बाहर ना निकल पाने के कारण उसका रोना छूट रहा था। उसे अपने माता-पिता और सभी की दी गयी सलाहें और सीखे याद आ रही थी। सब उससे कहते थे जो दूसरों का बुरा करता है उसके साथ भी बुरा होता है...पर उसने कभी किसी की भी नहीं सुनी। वह मन ही मन पछता रहा था और भगवान् से प्रार्थना कर रहा था, ‘हे ईश्वर! बस इस बार मुझे बचा लो। आज के बाद मैं किसी को परेशान करने का ख्याल भी अपने दिमाग में नहीं आने दूंगा।’

कुछ देर बाद डालू चूहे की दबी-दबी आवाजें सुनकर उसके माता-पिता और सभी जानवर केक के पास आये। डालू बार-बार हाथ जोड़कर मदद की गुहार कर रहा था। वह ठीक से कुछ बोल नहीं पा रहा था पर उसका पछतावा उसकी बातों में साफ़-साफ़ झलक रहा था।

डालू का हुलिया देखकर वहां खड़े सभी जानवरों के बच्चे उस पर हंस रहे थे।

डालू के माता-पिता ने कहा, ‘यही तुम्हारी सजा है। अब तुम यही रहो और अपने नुकीले दांतों और फुर्तीले शरीर पर घमंड करते रहो।’

डालू को अपने किये पर बहुत अफ़सोस हो रहा था। उसका सर शर्म से नीचे झुका हुआ था। कुछ जानवरों से देखा ना गया और उन्होंने एक लकड़ी के डंडे की सहायता से डालू को केक से बाहर निकाला। इसके बाद थोड़ा गुनगुना पानी मंगवाया गया और डालू को उससे नहलाया गया। वह बिल्कुल साफ़ हो गया और अब वह चल भी पा रहा था और बोल भी।

वह दौड़ा-दौड़ा अपने मम्मी-पापा के पास गया और उनसे लिपट कर रो पड़ा। उसने सभी से काम पकड़कर अपने किये की माफ़ी मांगी और वादा किया कि अब वह किसी को भी कभी भी परेशान नहीं करेगा और सबकी मदद करेगा।

यह कहकर वह पार्टी में आये सभी मेहमानों को नाश्ता और चाय सर्व करने लगा। डालू में आये बदलाव को देखकर उसके माता-पिता और सुंदरवन के सभी वासी बहुत खुश थे। गज्जू हाथी ने जल्दी से नया केक मंगवाया और कहा, ‘आज तो डालू का भी नया जन्म है इसलिए हम दोनों मिलकर केक काटेंगे।’ गज्जू हाथी ने डालू को अपनी सूंड पर बैठा लिया और फिर दोनों ने मिलकर केक काटा। इसके बाद सबने केक खाया और मिलकर डांस किया। अँधेरा होने पर सभी ख़ुशी-ख़ुशी अपने घर चले गए।

Monika Jain ‘पंछी’
(29/11/2013)

November 19, 2013

Poem on Indian Army Soldiers in English

India has one of the best armies in the world. Soldiers are the pride of our nation. They are the backbone of our country. They defend the country with their life and blood. Their life is very difficult and hard just like a bed of thorns. They fight to the last in order to save the motherland. The sacrifice of the Indian soldiers and their family members is incomparable. The below poem is dedicated to the indian army soldiers and their family members. I know words can never describe the courage, bravery and sacrifice of our Indian army. It’s just a salute to all the soldiers. Jai Hind!



Salute to The Soldiers

Defender of borders
I salute to the Indian soldiers.

Words can never describe
What a soldier and his sacrifice.

They put on hold their dreams and lives
They die so that we can survive.

They are the most disciplined persons
On them depend the security and stability of our nation.

They are the true sons of our country
Who fight to protect us from all the enemies.

They are the real heroes of the nation
Serving the motherland is their only passion.

Whether it’s the blood freezing cold or the scorching sun’s rays
They are protecting us without any holidays.

Whether the icy wind or the storms
They face all the challenges like the rocks.

They are pride of our nation
Their life is a source of inspiration.

Away from the mother, kids and wife
They are fulfilling their duty for the sake of our life.

We are grateful to the mothers
Who give birth to these soldiers.

We are obliged to the wives and kids
Who sacrifice their rights for the national deeds.

Monika Jain ‘Panchhi’
(19/11/2013)

15/11/2017 - Note : This is my old poem. After understanding the game of politics and slavery, I am not concerned with such writing. I am not the supporter of war and violence and unnecessary killing of people for power and politics. It depends on time, place and situation but still violence should be minimum. 

October 29, 2013

Poem on Old Age People in English

Our Elders

Today rhythms of children, youth and elders are distorted
Youth are indulged in themselves
and old age people seems them outdated.

Nuclear families are far away
from the intimate company of elders
‘Senior citizens are a problem’
this is the thinking of our youngers.

Those who send to their elders to old age homes
Forget one day they will also get old
and their children may do the same to get rid of them.

The old age people can fire the flame
in the light of which our society can success
With the knowledge and experience of senior citizens
our country can also progress.

It’s our duty to give our elders
emotional security and respect
We should bring them in the mainstream of society
and They should not be ignored and insulted.

The old people also have to understand
that change is the law of nature.
They have to accept the changes in the
thinking of new young generation being their elders.

Monika Jain ‘Panchhi’
(29/10/2013)

Old age people are our guide. They are our true pioneer. Direction they give us can change our destiny and their teachings can fill our life with happiness and peace. Elders are trees of rituals and values. In the shadow of senior citizens we can get the precious treasure of knowledge, experience and rites. So we should never ignore elderly people. Our existence is only because of our elders so we should provide them love, respect and protection. We should bring them in the mainstream of our society so that they never feel isolated and ignored. With their experience and with our new approach, creativity and hard work we can contribute in national development.

October 22, 2013

Poem on Moon in English


O Moon!

O Moon!
Will you do a favor for me?
The one who is far away from me
A glimpse of him, will you bring me?

Look!
So many years have been passed
Neither I met him, nor i saw him
It’s been a long time since I fought him.
Today I am missing everything associated with him
Loneliness is killing me deep within.

You are the witness of every night
When by holding hands in hands
We used to walk on dark and deserted paths.
Long ways turned into short
When two love birds started their journey
on a completely unknown path.

He was very calm just like you
So the excuse of fighting always I had to find
and After having a fight I used to cry like a child.
Those wet moments and his loving touch
Even if i wish I can not express
Love can be just felt
To describe it I am completely wordless.

Today I will start crying
If I will remember all the things.
The storm of memories will shatter me
if I will begin to tell about every meeting.

When he will read my sufferings
He will also start crying
and If I will see tears in his eyes
Literally I will start dying.

O moon!
Do a little favor for me -
Either bring my moon or
Do it moonless today for me.

Because seeing you tonight
My pain, I won’t be able to hide
and If my moon won’t come
It will be impossible to survive.
It will be impossible to survive.

Monika Jain ‘Panchhi’
(22/10/2013)

When we are in love and our loved one is not with us then everything around remind us of him/her. The above poem reflect the pain of a girl who is alone on the ‘Karva Chauth’ night. She is praying to moon to bring her lost love in her life again.

October 12, 2013

Story on Female Foeticide in Hindi

Story on Female Foeticide in Hindi
 वंशिका
(ललकार टुडे में प्रकाशित)

‘वंशिका! अच्छा नाम है न?’ अपनी मासूम सी बच्ची जिसने आज ही जन्म लिया था उसे अपने हाथों में उठा उसका माथा चूमते हुए दामिनी ने रश्मि से कहा।

कहते हैं जब एक औरत माँ बनती है तो उसका दूसरा जन्म होता है। वंशिका की माँ के रूप में तो दामिनी का दूसरा जन्म था ही साथ ही कुछ समय से उसकी दुनिया भी बदल चुकी थी।

अपने पति, सास-ससुर सभी को छोड़कर कुछ महीने पहले ही वह इस नए शहर में आकर बसी थी, सिर्फ और सिर्फ अपनी बेटी के लिए।

कितनी खुश थी वह जिस दिन उसे डॉक्टर से पता चला कि वह माँ बनने वाली है। ना जाने कितने सपने संजोये थे उसने अपनी पहली संतान को लेकर। पर जब उसे यह पता चला कि उसके पति और सास-ससुर चाहते हैं कि पहली संतान लड़का ही होनी चाहिए तो उसका मन एक अनजाने से भय से आतंकित हो गया।

घर वालों के दबाव में आकर उसे अपने गर्भ की जांच करानी ही पड़ी और जब उसे पता चला कि उसके गर्भ में एक लड़की पल रही है तो उसे उसके सारे सपने बिखरते नज़र आये।

उस पर बार-बार बच्चे को गिराने का दबाव डाला जाने लगा। पर इस कुकृत्य के लिए दामिनी बिल्कुल भी तैयार नहीं थी। एक नन्हीं सी कली जो अभी खिली भी नहीं, जिसने दुनिया देखी भी नहीं और जो उसके शरीर का एक हिस्सा थी उसे वह अपने से कैसे अलग कर सकती थी?

घर में रोज कलह होने लगी। उसने अपने पति अनिल और सास-ससुर को समझाने की बहुत कोशिश की पर उन पर कोई असर ना पड़ा और उन्होंने अपना फैसला सुना दिया, ‘तुम्हें घर और बच्ची दोनों में से किसी एक को चुनना होगा। अगर तुम्हें इस घर में रहना है तो बच्चा गिरवाना होगा वरना यह घर छोड़कर जाना होगा।’

दामिनी के पैरों तले जमीन खिसक गयी। दामिनी के माता-पिता नहीं थे। मायके में बस उसके दो बड़े भाई और उनके बीवी-बच्चे थे। उसने अपने मायके में बात की तो वहां से भी यही सलाह मिली, ‘जैसा ससुराल वाले कहते हैं वैसा ही कर। जिसने जन्म ही नहीं लिया उसके लिए तू अपने पति को कैसे छोड़ सकती है? बच्चे तो और भी हो जायेंगे पर शादी कोई बच्चों का खेल नहीं है जो तू इतना बड़ा फैसला अकेले ले ले।’

मायके से भी निराश दामिनी के लिए अब कोई भी फैसला करना बहुत मुश्किल था। पर किसी भी कीमत पर वह एक मासूम बच्ची की जान नहीं ले सकती थी। उसने अपनी बचपन की पक्की सहेली रश्मि से बात की और उसी के शहर में अपने रहने का इंतजाम करवाया और अपनी सारी हिम्मत जुटाकर कपड़ों से भरा सूटकेस और अपने जमा कुछ पैसे लेकर निकल पड़ी एक नए शहर के लिए।

अपनी सहेली के घर के पास ही एक छोटे से कमरे में उसने अपनी नयी दुनिया बसाई। दामिनी पढ़ी लिखी थी। वहीँ उसने एक स्कूल ज्वाइन कर लिया और किसी तरह अपना नया जीवन शुरू किया। आसान तो कुछ भी नहीं था पर अपनी हिम्मत और रश्मि से मिली मदद के बल पर उसने सारी मुश्किलों को पार किया और कुछ महीने बाद एक बहुत ही सुन्दर फूल सी बच्ची को जन्म दिया।

दामिनी वंशिका को प्यार से वंशु कहकर बुलाती थी। एक छोटी सी बच्ची के साथ जॉब और घर के सारे काम बहुत मुश्किल थे पर दामिनी को कुछ अच्छे लोगों का साथ मिला और मुश्किलों से उसकी लड़ाई जारी रही। दामिनी ने वंशिका की पढ़ाई-लिखाई और पालन-पोषण में कोई कसर नहीं छोड़ी। वंशिका भी अपनी माँ से बहुत प्यार करती थी। दामिनी सिर्फ उसकी माँ ही नहीं बल्कि उसकी सबसे अच्छी दोस्त भी थी, जिससे वह अपने स्कूल, दोस्तों सबकी बातें शेयर करती थी।

वंशिका को अपने पिता का सच नहीं पता था। उसे यही बताया गया कि एक हादसे में उसके पिता और दादा-दादी की मौत हो गयी। क्योंकि दामिनी नहीं चाहती थी कि अपने पिता का सच जानकर वंशिका का दिल टूट जाए और वह अपने पिता से नफरत करने लगे।

उधर दामिनी के जाने के एक साल के भीतर ही उसके पति अनिल ने दूसरी शादी कर ली। नयी पत्नी से दो जुड़वा बेटे हुए आकाश और विकास।

समय बीतता गया और बच्चे बड़े हो गए।

वंशिका ने PMT की परीक्षा पास की और मेडिकल कॉलेज से अपनी पढ़ाई पूरी कर वह डॉक्टर बन गयी। वंशिका की पोस्टिंग उसी शहर में हुई जहाँ उसके पिता रहते थे। दामिनी को जब पता चला तो अतीत की सारी स्मृतियाँ उसकी आँखों के सामने छाने लगी। वह घबरा भी गयी पर बेटी के करियर का सवाल था सो अपनी भावनाओं पर काबू कर वह बेटी के साथ उसी शहर चली आई जहाँ से कभी शादी के बाद उसने अपना नया जीवन शुरू किया था।

उधर अनिल की दूसरी पत्नी निशा की कुछ साल पहले एक कार एक्सीडेंट में मौत हो गयी थी। आकाश और विकास दोनों ने अमेरिका में एम.बी.ए. किया और वहीँ की लड़कियों से शादी कर वहीँ सेटल हो गए। इधर दामिनी का पति अनिल अपने बूढ़े माता-पिता के साथ अकेला रह गया।

अनिल की तबियत बहुत ख़राब रहने लगी। जांच कराने पर पता चला उसे ब्लड कैंसर है। जिन बेटों की चाह में उसने अपनी पहली पत्नी को घर से निकाल दिया उन्हीं को उसकी कोई परवाह नहीं थी। अकेलापन उसे सालने लगा और वह अपराध बोध से भर गया पर अब पछताने के अलावा उसके पास कुछ था भी नहीं। मरने से पहले उसकी बस एक ही ख्वाहिश थी दामिनी और अपनी बेटी से माफ़ी मांगना।

एक दिन वंशिका जब अपने घर से हॉस्पिटल के लिए रवाना हो रही थी तो उसने देखा पास ही में एक आदमी चक्कर खा कर गिर गया और बेहोश हो गया। लोगों की मदद से वह उसे अपने घर तक लायी। माँ से पानी मंगवाया और उस आदमी की जांच करने लगी। माँ वंशिका को पानी का गिलास देकर ज्यों ही वापस मुड़ी अचानक उसके कदम रुक गए। उसने उस आदमी को ध्यान से देखा। वह और कोई नहीं बल्कि उसका पति अनिल ही था। वह एकदम स्तब्ध रह गयी। अनिल को भी होश आ गया था। उसके सामने दामिनी खड़ी थी। उसने अपनी आँखों को मसला और फिर से उसे देखा। जब उसने दामिनी को पहचान लिया तो वह अपनी भावनाओं पर काबू ना कर सका और फूट फूट कर रोने लगा। वह हाथ जोड़कर बोला, ‘दामिनी! प्लीज मुझे माफ़ कर दो। मैं तुम्हारा बहुत बड़ा अपराधी हूँ पर हो सके तो मुझे माफ़ कर दो।’

वंशिका को कुछ समझ नहीं आया तो उसने माँ से पूछा, ‘माँ क्या आप इन्हें जानती हो?’

वंशिका के माँ कहते ही अनिल ने अपने आंसू पौंछे और एक बार वंशिका को और फिर सवाल भरी निगाह से दामिनी की ओर देखा। दामिनी ने सहमति में सर हिला दिया।

अनिल को खांसी चलने लगी। वंशिका पानी का गिलास लेकर अनिल को पानी पिलाने लगी। पानी पीकर अनिल ने बड़े प्यार से उसके सर पे हाथ फेरा और पूछा, ‘बेटा! तुम्हारा नाम क्या है?

‘वंशिका!’ और इस शब्द के साथ ही अनिल की आँखें झुक गयी और फिर से अविरल आंसू बह पड़े।

Monika Jain ‘पंछी’
(12/10/2013)

October 10, 2013

Poem on Old Age People in Hindi

बुजुर्ग 

आज बच्चों, युवाओं और बुजुर्गों के
लय ताल बिगड़े हुए हैं 
युवा और बच्चे हैं अपने में मग्न 
और बुजुर्ग उन्हें आउटडेटेड लग रहे हैं। 

एकल परिवारों ने बुजुर्गों के 
आत्मीय सानिध्य को 
कर दिया है दूर 
बुजुर्ग हैं एक आफत 
यह सोचती है आज की पीढ़ी 
होकर मगरूर। 

बुजुर्गों को वृद्धाश्रम भेज 
उनसे छुटकारा पाने वाले 
भूल जाते हैं 
होंगे वे भी एक दिन बूढ़े 
जो आज हो रहे हैं 
जवानी में मतवाले। 

नहीं है उन्हें भान कि
बुजुर्ग जला सकते हैं वह मशाल 
जिसकी रौशनी में समाज 
तरक्की कर सकता है 
बुजुर्गों के ज्ञान और अनुभव से 
हमारा देश आगे बढ़ सकता है। 

बुजुर्ग संस्कारों का वृक्ष हैं 
अनुभव और ज्ञान में वे दक्ष हैं
उनकी छाया में हम पायेंगे 
अनमोल खजाना 
भूल कर भी अपने बड़ो से 
दूर ना जाना। 

बुजुर्ग हमारे मार्गदर्शक है 
वे ही हमारे पथ प्रदर्शक है
उनसे मिली दिशा 
बहुत कुछ बदल सकती है 
बजुर्गों की सीख, हमारा जीवन 
खुशियों से भर सकती है। 

हमारा कर्त्तव्य है बुजुर्गो को दें 
भावनात्मक सुरक्षा और सम्मान 
उन्हें जोड़े समाज की मुख्य धारा से 
और ना करें उनकी उपेक्षा व अपमान। 

बुजुर्गों को भी समझना होगा 
बदलाव है प्रकृति का नियम 
कोई मनमानी नहीं 
आज की पीढ़ी में होते 
बदलाव को अस्वीकृति
बुद्धिमानी नहीं। 

गर ना समझे वे तो भी 
एक बात पर देना तुम सब ध्यान 
हमारा अस्तित्व है हमारे बड़ो से 
सो उनको प्यार, सुरक्षा और देकर सम्मान 
कर रहे हैं हम अपना ही उत्थान। 

Monika Jain ‘पंछी’
(10/10/2013)

25/10/2017 : नोट : पुरानी कविता है, बच्चों के लिए है और उस समय की समझ और बुजुर्गों के प्रति कुछ बुरी घटनाओं और बर्ताव को देखकर लिखी गयी है, जिससे आज पूरी तरह सहमत नहीं हूँ। निष्पक्ष रूप से अभी यह कह सकती हूँ कि न तो बुजुर्ग होना सही का प्रमाण है और ना ही युवा होना। जन्म दे देने से कोई महान नहीं बनता और ना ही हमारा अस्तित्व कोई उपलब्धि जैसी चीज है। इसके अलावा सही और गलत समझ, परिस्थितियों और समय पर निर्भर करते हैं। कई मामलों में बुजुर्ग गलत हो सकते हैं और कई मामलों में युवा भी। हाँ, लेकिन हम सब आपस में जुड़े हुए हैं, सभी में कमियां हैं। ऐसे में जहाँ तक और जितना संभव हो सभी के प्रति समझ और संवेदनशीलता जरुरी है। जहाँ अपवाद स्वरुप सख्त रवैये की जरुरत हो वहां वह भी हो लेकिन उसका भी आधार कोरा निजी स्वार्थ न होकर समझ और संवेदनशीलता हो यह बेहद जरुरी है। इसके अलावा एक महत्वपूर्ण बात यह है कि बड़ों का बदलना मुश्किल होता है, लेकिन छोटी उम्र में खुद में बदलाव उतने ही आसान होते हैं, इसलिए कई मामलों में वृद्ध लोगों से बदलने की अपेक्षा नहीं रखी जा सकती है। बेहतर यह है कि हम खुद को सुधारें ताकि आने वाली पीढ़ियों को एक बेहतर माहौल मिले।

October 9, 2013

Poem on Discipline in English

Discipline

Discipline means a good awareness of 
our duties and obligations
Discipline is necessary for the 
growth and development of our nation.

Discipline plays an important role
 in every walk of life
Discipline is the refinement of 
our inner and conscience.

Whether It’s academic, sports or 
any other field
There are countless benefits that
 a disciplined approach can yield.

Today’s students are tomorrow's leaders
It’s the discipline that is 
backbone of their character.

Discipline demands 
self control, dedication and patience
It’s the discipline that makes the learning 
effective, lasting and efficient.

Disciplined life gives us 
health and happiness
It’s the discipline that always 
leads to success.

Discipline is the essential quality
 that picks up over brutality
It’s the discipline that adds color and charm to 
everyone’s personality.

Discipline works everywhere
Whether it’s our body, universe or 
any other sphere.

. The earth and the moon revolve around the sun
 in a disciplined way
As a result after every twelve hours 
we can see night and day.

Discipline is the law of nature
and It is also necessary for the
whole social structure.

Increasing chaos in society is the 
result of indiscipline
To have a happy, peaceful and prosperous life 
we have to inculcate discipline

Without discipline society will become 
devil’s paradise
It’s the discipline that determines
 what is wrong and what is right.

Discipline is the bridge between 
goals and accomplishment
It’s the discipline that directs work
 making it fruitful and excellent.

Self discipline is the best way to achieve 
complete discipline
It’s the ability to conquer oneself 
and getting true independence.

Monika Jain ‘Panchhi’
(09/10/2013)

October 1, 2013

Poem on Diwali in English


The Festival of Lights

We have brighten up our home with so many lamps
All the darkness of this moonless night is turned away in an instant.

To welcome Maa Lakshmi we have made all the arrangements
With sweets, nuts and fruits we have filled our worship plates.

We are burning so many firecrackers
and Emptying the plates of sweets and desserts.

We are wishing our friends with a great delight
and This way we have celebrated the another festival of lights.

But there are thousands of homes where there is no light
There are so many eyes without any dreams of flight.

Merely by lightning our homes the motive of diwali is not achieved
Deepawali is the sign of triumph of good over evil,
By only worshipping Maa Lakshmi our duties are not fulfilled.

Let’s Brighten up this diwali our own inner and conscience
and Remove the darkness of people who are living miserable life.

Let’s make their diwali so bright
and Celebrate in true sense this festival of light.

Monika Jain ‘Panchhi’
(10/2013)

‘Diwali’ the festival of lights is one of the most important festival of Hindus celebrated all over the India. Each and every festival comes with a great message imbibed in it. The festivals should not be celebrated just for the sake of celebration. We should try to celebrate every festival in its true sense. So let’s this Deepawali we bring light in the life of people who are helpless, poor and living their life in darkness, who don’t have enough money to buy even a single lamp and a single piece of sweets. It’s not only our duty, in fact it’s our right too, to make this diwali more joyous and bright. Wish you all a very Happy Diwali.

September 18, 2013

Funny Poem (Hasya Kavita) in Hindi


हास्य कविता 

दोस्तों ने कहा -
ट्राय करो कभी हास्य व्यंग्य!
हमने कहा -
इसमें है हमारा हाथ तंग! 

अरे! एक कोशिश तो 
करके देखो। 
थोड़े हंसी के फव्वारे भी कभी 
अपनी वॉल पे फेंको। 

हमनें कहा -
पढ़कर हमारी हास्य कविता 
गर किसी को हंसी ना आई 
तो बैठे बिठाये हो जाएगी 
हमारी जग हंसाई। 

अब वॉल पर हम 
बैकग्राउंड हंसी तो चला नहीं सकते 
हँसना मना है कहकर 
लोगों को जबरन हंसा तो नहीं सकते। 

यहाँ लाफ्टर शोज के जजेज
नहीं बैठे हैं 
बिन बात के हा-हा-हा करने के 
किसी ने पैसे नहीं ऐंठे हैं। 

गर एक को भी हंसी ना आई 
तो हमारी आँखें भर आएगी 
झाँसी की रानी बनकर 
पायी है हमने जो इज्जत 
तुम्हारे इस हास्य व्यंग्य के आईडिया से 
मिट्टी में मिल जाएगी। 

तम्हारा आईडिया मुझे 
लग रहा फ्लॉप है 
सड़े अंडे और टमाटर खाने का 
हमें नहीं शौक है। 

दोस्त ने कहा -
तो चलो हम एक काम करते हैं 
तुम्हारी पहली कविता का टाइटल 
हँसना जरुरी है रखते हैं। 

कोई तो
तुम पर तरस खा ही लेगा 
दांत दिखाए ना दिखाए 
पर जरा सा मुस्कुरा ही लेगा। 

नहीं तो हम एक झकास काम करेंगे 
फर्जी आई-डी से कॉमेंट बॉक्स को 
हा-हा-हा से भर देंगे। 

न तुम्हारी कमाई इज्जत कहीं जाएगी 
हंसी ना आई किसी को तो भी 
तुम्हारी कविता 
हास्य कविता कहलाएगी। 

Monika Jain 'पंछी'
(18/09/2013)

September 16, 2013

Poem on Bravery (Courage) in Hindi

(1)

हम मगर चलते रहे

जिन मुश्किलों में मुस्कुराना था मना 
उन मुश्किलों में मुस्कुराते हम रहे।
जिन रास्तों की थी नहीं मंजिल कोई 
उन रास्तों पे हम मगर चलते रहे।
जिस दर्द को दरकार थी आंसुओं की 
उस दर्द में आंसू हमारे ना बहे।
जो ख़्वाब रूठे थे हमारी जिंदगी से 
वो ख़्वाब आँखों में मगर पलते रहे।
मुंह मोड़ के अपने हमारे चल पड़े 
यादों में उनकी हम मगर जीते रहे।
आते रहे तूफ़ान हमको लीलने को 
हम मगर लहरों के संग लड़ते रहे।
जिंदगी ने कर दिया इंकार जीने से मगर 
मौत को भी हर कदम पे, मात हम देते रहे। 

Monika Jain 'पंछी'
(03/03/2013)

(2)

सुनो दर्द!

दर्द ने हंस कर कहा मुझसे 
एक दिन तुझे जिंदगी से रूठना होगा 
चाहे कितना भी लड़ ले तू मुझसे 
पर एक दिन तुझे टूटना होगा। 

तेरी कोशिशे बेकार हैं 
तेरे सपने निराधार हैं 
मेरी ताकत के आगे 
तेरी जिद लाचार है। 

तू नही सह पायेगी मुझे 
जब मैं हद से गुजर जाऊंगा 
रूह काँप उठेगी तेरी 
जब मैं अपना कहर ढ़ाउंगा। 

कोई ना देगा तेरा साथ
तेरे अपने छोड़ देंगे तेरा हाथ
तब तू कैसे सांस ले पायेगी 
कुछ भी कर तेरी आस टूट ही जाएगी।

सुनो दर्द!
तुम चाहे हद से गुजर जाओ 
चाहे कितना भी कहर बरसाओ 
जुल्म करो ढेरों मुझ पर 
चाहे कितना भी सितम ढाओ

पर लडूंगी मैं तुमसे 
जब तक चल रही मेरी साँस है 
तुम्हें हो न हो 
मुझे खुद पर इतना तो विश्वास है। 

मेरी कमजोरियों को 
अपनी ताकत ना समझना 
मेरी मजबूरियों को 
अपनी हिमाकत ना समझना

क्योंकि हिम्मत ही मेरी 
सबसे बड़ी आस है 
तुम्हें हो न हो 
मुझे खुद पर इतना तो विश्वास है। 

हार मान लेना 
ये मुझसे हो ना पायेगा 
लडती रहूंगी मैं हर पल 
चाहे तू कितना भी मुझे सताएगा 

क्योंकि मनोबल के सिवा 
कुछ भी नहीं मेरे पास है 
तुम्हें हो न हो 
मुझे खुद पर इतना तो विश्वास है। 

हाँ, जीतना मेरा कोई 
ख़्वाब नहीं है 
पर रुक कर बैठ जाना 
ये भी तो कोई बात नहीं है 

चलती रहूंगी निरंतर 
क्योंकि चलना ही मेरे लिए खास है 
तुम्हें हो न हो 
मुझे खुद पर इतना तो विश्वास है। 

Monika Jain 'पंछी'
(16/09/2013)

04/11/2017 - नोट : थोड़ी भावुकता में लिखी गयी पुरानी कवितायेँ हैं। पूरी तरह तो सहमत नहीं क्योंकि अहंकार का समावेश है, लेकिन मूल सन्देश लेकर चलें तो जीवन और मृत्यु क्या लेकर आएगी, यह हम तय नहीं कर सकते। हम बस यह तय कर सकते हैं कि हम उनका स्वागत कैसे करेंगे। ‘खुद’ से यहाँ आशय आत्म/परम तत्व से लेना बेहतर होगा। हम बस आत्म/परम तत्व में श्रद्धा रखें, जागरूक रहें। जो भी विषम स्थितियां हैं, सबसे पहले उन्हें स्वीकार करें और जो बदल सकते हैं, उन्हें बदलने का प्रयास करें। 

September 5, 2013

Poem on Teacher (Teacher's Day) in Hindi


(1)

सच्चे शिक्षक 

ताउम्र मुझे तलाश रही 
एक सच्चे शिक्षक की 
और ना मिलने पर
मैंने बना ली थी एक धारणा 
कि आसान नहीं है इस युग में 
एक अच्छा गुरु मिल पाना। 

पर मैं अबोध!
ये कहाँ जानती थी 
कि हर रोज मैं मिल रही हूँ 
कई गुरुओं से 
जो रूबरू करवा रहे हैं मुझे 
जीवन के अनभिज्ञ पहलुओं से। 

मेरी असफलताएं!
क्या नहीं हैं मेरी शिक्षक? 
उन्होंने ही तो मुझे दिखाई है 
मेरी वो कमियां 
जहाँ सुधार कर चढ़नी है 
मुझे सफलता की सीढ़ियाँ। 

ये प्रकृति! 
ये तो सबसे बड़ी गुरु है। 
जिसके हर कण-कण में बिखरी है 
ज्ञान की कड़ियाँ 
जिन्हें जोड़कर बनती है 
रोशनी की एक नयी दुनिया। 

हमारे जीवन से जुडा हर व्यक्ति 
हमारा शिक्षक ही तो है। 
क्योंकि हर कोई कुछ नया सिखा जाता है 
एक दगाबाज भी सच्चाई दिखा जाता है। 

आज मेरी तलाश खत्म हो गयी है 
किसी एक गुरु की मुझे जरुरत नही है। 
मुझे सीखना है जीवन के हर क्षण से 
मुझे पाना है ज्ञान प्रकृति के कण कण से। 

Monika Jain 'पंछी' 
(05/09/2013)

(2)

शिक्षक 

माँ है मेरी जीवन दाता 
पिता है पालक पोषक 
पर जीने की राह दिखाते 
मुझको मेरे शिक्षक। 

अनुशासन का पाठ पढ़ाते
अच्छी-अच्छी बात सिखाते 
कठिन-कठिन लगते सवाल जो 
सरल बनाकर हल करवाते। 

सच्चा मार्ग दिखाते हमको 
यश की ना वो करते चाह 
ईश्वर से भी ऊपर दर्जा 
दिखलाते जीवन की राह। 

Monika Jain 'पंछी' 

September 2, 2013

Essay on Forgiveness in Hindi

क्षमा

क्षमा कर देने और क्षमा मांगने, दोनों के ही लिए एक साहसी, संवेदनशील, साफ़ और बड़े दिल की जरुरत होती है। क्षमा मांगना कायरता की निशानी बिल्कुल भी नहीं है बल्कि यह तो अहंकार का नाश है। दूसरी ओर क्षमा कर देना भी बड़प्पन, सकारात्मकता और महानता को ही दर्शाता है। देखा जाए तो दोनों ही चीजे प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से हमें ही फायदा पहुंचाती है। न किसी से नफरत, द्वेष और ईर्ष्या रखकर हम खुश रह सकते हैं और ना ही कोई हमें नफरत करे यह बात हमें अच्छी लगती है।

अपनी गलतियों को स्वीकारने और किसी को माफ़ कर देने के लिए दिन विशेष की जरुरत नहीं होती, पर हाँ, दिन विशेष हमें ठहरकर सोचने का समय देता है। जीवन की भागदौड़ में जो कुछ छूटता जा रहा है, उसे सहेजने का अवसर देता है। लेकिन अक्सर महज औपचारिकताओं में यह दिन भी निकल जाता है। संवत्सरी की संध्या से शुरू हुआ सिलसिला अगले 1-2 दिनों में खत्म हो जाता है, और हम वहीँ के वहीँ रह जाते हैं, फिर से ढेर सारी गलतियाँ करने की तैयारी के साथ।

अगर किसी चीज की सबसे ज्यादा जरूरत है तो वह है आत्मविश्लेषण की, खुद में झाँकने की, अपनी गलतियों को पहचानने की, उन्हें स्वीकार करने की और इस संकल्प के साथ क्षमा मांगने की कि भविष्य में ये गलतियाँ नहीं दोहराई जायेगी। हम जैसा व्यवहार दूसरों से अपने लिए चाहते हैं, वैसा ही व्यवहार सबके साथ करें, यह बदलाव ही इस दिन की सार्थकता है।

अगर हमने गलती की है तो उसे स्वीकार करने और क्षमा मांगने से हमें कतराना नहीं चाहिए। क्षमा का उम्र से भी कोई लेना देना नहीं होता। अगर आप ऐसा सोचते हैं कि आप बड़े हैं इसलिए आप क्षमा नहीं मांगेंगे तो ये आपकी छोटी सोच और अहंकार को दर्शाता है। जो सच में बड़े होते हैं वहीँ क्षमा मांग सकते हैं और क्षमा कर भी सकते हैं। क्षमा आत्मग्लानि से मुक्ति दिलाती है, टूटे रिश्तों को जोड़ती है, अहंकार का नाश करती है और हमारे जीवन में सकारात्मकता की वृद्धि करती है।

कोई भी पूर्ण दोषमुक्त नहीं होता। हर व्यक्ति में कोई ना कोई कमी होती है, और छोटी-मोटी गलतियाँ सभी से होती है। अगर हमें हमारी गलतियों के लिए हमारे माता-पिता, शिक्षकों ने माफ़ ना किया होता तो? इसलिए इंसान की गलतियों और कमियों को देखने की बजाय उसकी अच्छाइयों को देखना जरुरी है। अगर हम छोटी-छोटी बातों पर मन में बैरभाव लेकर बैठ जायेंगे तो सबसे ज्यादा नुकसान हमारा ही होगा।

किसी को क्षमा करके हम सबसे बड़ा उपकार खुद पर करते हैं, क्योंकि हमारे अन्दर पल रही नफ़रत, द्वेष और घृणा दूसरे को तनिक भी क्षति नहीं पहूँचाती बल्कि हमारे स्वयं के लिए विष का कार्य जरुर करती है। जब तक हम क्षमा नहीं करते तब तक हम नकारात्मक विचारों का बोझ अपने दिल और दिमाग पर ढ़ोते रहते हैं। क्षमा करना स्वयं को इस बेवज़ह के बोझ से मुक्ति प्रदान करना है। क्षमा करने से क्षमा पाने की तुलना में ज्यादा ख़ुशी और हल्कापन महसूस होता है।

खुद को अक्सर माफ़ नहीं कर पाती इसलिए आज क्षमा दिवस के अवसर पर सबसे पहले मेरी क्षमा खुद से है। उन सभी गलतियों के लिए मैं खुद को माफ़ करना चाहती हूँ, जिन्होंने प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से मुझे, मेरे व्यक्तित्व और मेरे चरित्र को क्षति पहुँचाई हो, इस संकल्प के साथ कि भविष्य में उनका दोहराव नहीं होगा। इसके पश्चात् मैं इस सृष्टि के समस्त जीवों से क्षमा याचना करती हूँ, जिन्हें भी मेरे शब्दों, मेरे व्यवहार या मेरे किसी भी कार्य से ठेस पहुंची हो। साथ ही जिन्होंने भी मेरा दिल दुखाया है, उन सबके प्रति मन में उपजे नकारात्मक विचारों का त्याग करने की मैं सच्चे दिल से पूरी कोशिश करुँगी। क्षमत क्षमापना! मिच्छामी दुक्कड़म्!

Monika Jain 'पंछी'
(09/2013)

September 1, 2013

Poem on Forgiveness in English

Let's Forgive Each Other

Forgiveness blossom flowers of love
Forgiveness melt prong of hate
The effect of forgiveness is such that
Enemies hug each other and become friends.

As much as this word is beautiful
its presence is equally fine
Forgiveness cleans
every single corner of our mind.

To apologize and to forgive
makes a complete personality
Ego doesn't stay
in the presence of sorry.

By not forgiving others mistake
we are doing injustice with ourself
We are moving with a heavy burden
remaining the offender of ourself.

So on the day of forgiveness
Let’s come together and forgive each other
Filth that is loaded in our heart
Let’s make it perfectly clear.

Monika Jain ‘Panchhi’
(09/2013)

To forgive and to ask for forgiveness, both need a courageous, sensitive, clean and a big heart. To apologize is not the sign of cowardice. In fact it destroys our ego. On the other hand to forgive is also the sign of nobility and greatness. Directly or indirectly both these things benefit us. The biggest favor by forgiving someone we do on ourselves. Because the hate, malice and envy dwells within us do not harm others but it definitely work as a poison for us. Forgiveness releases us from the captivity of these negative thoughts and their unnecessary burden. The thing which is most needed for us is to introspect, to become introvert, to recognize our mistakes, to accept them and to ask for forgiveness with a resolution that these mistakes will not be repeated in future. Behavior we expect from others should be our behavior towards others.

August 31, 2013

Poem on Religion in English

Find Your Lord

We spend millions of rupees
to make magnificent temples for god
But there are millions of people
who spend their whole lives on roads.

We offer to god variety of sweets
But there are many people
who don't have anything to eat.

We devote expensive clothes and jewelry to lord
But millions of people wear clothes
that are torn and old.

We are proud of our religion
But we never see that man
sitting on the road in isolation.

We take up swords in the name of religion
But we don't even notice that lady
struggling with her starvation.

Religious extremists are destroying
our peace, freedom and happiness
We should understand
what the religion originally desire from us.

Religious Hypocrites are developing
religion as a business
For their personal interests
they are dividing us.

We all the living beings are
constituent of five elements
kept alive by heat and light
Our source and destination is one
then why to choose different paths?

The message given by every religion
is of love and humanity
Then why this pomp and why this hypocrisy?

Love, peace, happiness and god all are within us
Sow the seeds of love and happiness
and reap again in tons.
Choose the true path of devotion towards god
Love every creature and you will truly find your lord.

Monika Jain 'Panchhi'
(31/08/2013)

Religious hypocrites have made the religion just a product to sell and market. This hypocrisy is making the people narrow minded and prejudice towards others and this is destroying our peace, freedom and happiness. We should understand the true meaning of religion. Love and humanity is the essence of all the religions. So by filling the heart with love for everyone and by following humanity we can become religious in true sense.

August 22, 2013

Poem on Diwali in Hindi


(1)

इस दिवाली

इस दिवाली दिया जलाना
प्रेम और विश्वास का
हर चेहरे पर झलके जो
बन मधुर गीत उल्लास का।

तेल स्नेह का भरती बाती
हर आँगन रोशन कर आती
काश! दिवाली की थाली
कुछ ऐसे सजायी जाती।

इस दिवाली मीठा करना
मुंह धरती से आकाश का
कोई रहे न भूखा-प्यासा
हर मुख हो चाँद उजास का।

धरती के तारों से रौशन
हो अम्बर भी इतराए
जब भूखा-नंगा हर बच्चा
भर किलकारी मुस्काए।

इस दिवाली खूब छुड़ाना
मन से बैर खटास का
हिल-मिल कर सब गीत सुनाना
सुकूं और मिठास का।

Monika Jain ‘पंछी’
(01/10/2016)


(2)

सार्थक दिवाली 
 (Published in India Link, Grand Rapids, Michigan)

अपने घर को तो हमने
चिरागों से रौशन कर दिया
दिये जलाए ढ़ेरों
और अमावस का सारा तम
पल भर में हर लिया।

माँ लक्ष्मी के स्वागत की
सारी तैयारी कर ली
मिठाई और मेवों से
पूजा की थालियाँ भर ली।

छोड़े ढ़ेर सारे पटाखे
और फुलझड़ियाँ
दोस्तों और रिश्तेदारों को दी
ढ़ेरों बधाईयाँ।

कर दी मीठे पकवानों की
थालियाँ खाली
लो मन गयी हमारी
एक और दिवाली।

पर न जाने कितने घर हैं
जहाँ आज भी दिया जला नहीं
न जाने कितनी हैं आँखें
जिनमें कोई ख़्वाब अब तक पला नहीं।

क्या सिर्फ अपने घर को रौशन कर देने से
दिवाली मन जाती है?
दिवाली है बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक
क्या सिर्फ लक्ष्मी पूजन से
हमारे कर्तव्यों की छुट्टी हो जाती है?

रौशन कर दो इस दिवाली
अपने-अपने अंतर्मन को
और हर लो उन सबके अंधरे
जो जीते हैं सुबह शाम तम को।
ताकि बन जाए उनकी भी ये शाम निराली
और मन जाए हमारी एक सार्थक दिवाली।

Monika Jain 'पंछी'
(22/08/2013)


Diwali is the festival of light, the symbol of victory of truth over lies. What can be the best way to celebrate this festival? I think the best way to celebrate deepavali is to light our soul first. There are many houses in our country filled with darkness. There are many people who even don’t have money to buy a single lamp. Isn’t our duty to share a little light with them also. It’s the best time to distribute happiness among needy ones. So let’s celebrate this deepawali in a unique and meaningful way. Wish you all a very Happy Deepawali.

August 18, 2013

Anjaan Ajnabi Shayari in Hindi

अजनबी / अनजान शायरी 

फेसबुकिया आकर्षण की बस यही कहानी है
उसका लाइक नहीं आया मतलब पोस्ट ही बेमानी है। :’( 
मेरी नहीं यह किसी और की कहानी है। :D 

अजनबी में अपनापन हम भी तलाशते हैं 
जीने की आरजू को कुछ यूँ तराशते हैं। 

अपनों की कमी कुछ यूँ छिपा लेती हूँ 
किसी अजनबी को देखकर मैं मुस्कुरा लेती हूँ। 

चाहे तुम अजनबी बनकर ही रहो
पर तुम्हारा होना तसल्ली देता है। 

चलो फिर से अजनबी बन जाएँ हम
गिले-शिकवे सारे भूल जाएँ हम
शुरुआत करे एक नयी दोस्ती की
हुई जो गलतियाँ वो फिर ना दोहराएँ हम। 

इतना इंतजार ना कराओ अजनबी 
कहकर तो जाओ गर जा रहे हो कहीं। 

सच! कुछ लोग होते हैं जादूगर
हर पल को बेगाना बना जाते हैं 
जाते हैं जब तो ऐसे जाते हैं 
हमें खुद से भी अनजाना बना जाते हैं। 

उम्र भर की हम सजा पाते हैं
जब ये जाने पहचाने अजनबी चले जाते हैं

जो तुम अजनबी ही रहते तो जिंदा होता मुझमें बहुत कुछ
तुम्हें जानने की कीमत मैंने खुद को खोकर चुकाई है। 
कैसे माफ़ कर दूँ तुम्हें, कैसे भूल जाऊँ सब कुछ?
फितरत तो आज भी तेरी खुदगर्जी में लिपटी बेवफ़ाई है। 

अक्सर ये भरोसे टूट जाते हैं
जो दिल के हैं करीब
फिर अजनबी बन छूट जाते हैं। 

अजनबी ही हैं सब इस दुनिया में मेरे दोस्त! 
किसी को जान पाना उफ! एक उम्र भी काफी नहीं होती। 

अपने नहीं बदलते कभी भी, कहीं भी 
पर अफ़सोस कि अक्सर अपना कोई होता ही नहीं। 

ख़्वाब बुनना कब का भुला चुके हैं 
अपने और अजनबी का भेद हम मिटा चुके हैं 
अब तो हर अपना अजनबी और हर अजनबी है अपना 
किसी को खास बनाने का अब रहा ना कोई सपना। 

तुम कहते हो तो कर लेते हैं
उस अजनबी से हम बात 
पर डरते हैं अब अजनबियों से 
इस मासूम दिल के जज्बात। 

तुम जब भी मिलो तो अजनबी बनकर ही मिलो 
ये जान-पहचान मुझसे अब हो ना पाएगी 
टूटे सपनों की किरचे अब तक चुभी हैं आँखों में 
नयी उम्मीदें फिर से पाली ना जायेगी। 

Monika Jain ‘पंछी’

17/10/2017 - नोट : पुराना (वह भी अलग-अलग समय का) लेखन है। कुछ वास्तविकता और कुछ कल्पना दोनों का ही सम्मिश्रण है। (शिकायत या दुःख भरी रचनाओं के सन्दर्भ में) कभी-कभी ऐसा भी होता है कि जीवन के संघर्षों में दुःख बहुत कुछ और ही होता है, लेकिन अभिव्यक्त किसी और ही रूप में किया जाता है। सिर्फ संकलन के उद्देश्य से ही यह इस ब्लॉग पर है। शेष वर्तमान में इनमें से कुछ रचनाओं से वैचारिक स्तर पर भी खुद को सम्बद्ध नहीं पाती। 

August 7, 2013

Story on Parents in Hindi

नया घर

नौकर ने आकर शमशेर सिंह को बताया कि आपसे कोई मिलने आया है। शमशेर सिंह ने दरवाजे की ओर देखा तो उनके दफ़्तर का एक साथी मिठाई का डिब्बा और निमत्रंण पत्र हाथ में लिये खड़ा था। अपने मित्र से बातचीत करते हुए मालूम हुआ कि उसने अपना नया घर बनाया है और उसी के लिये न्योता देने आया है। शमशेर सिंह ने अपना दिल खोलते हुए उससे कहा कि मैं भी अगले साल रिटायर हो रहा हूँ, लेकिन मैने तो अभी तक अपना घर बनाने के बारे में सोचा ही नही। शमशेर सिंह जी के बेटे और बहू ने कहा कि हम तो आपसे कई बार कह चुके हैं कि आप भी जल्दी से अपना एक नया घर बना लो। जब तक आप नौकरी में हो तब तक घर बनाने में किसी किस्म की कोई परेशानी नहीं होगी। उसके बाद तो कई लोग टांग अड़ाने के लिये खड़े हो जाते हैं। शमशेर सिंह ने अपने बेटे से कहा कि आज कल घर बनाने के लिये बहुत सारे पैसों की जरूरत पड़ती है। बेटे ने झट से कह दिया कि आप एक बार आवाज तो दे कर देखो, बैंक वाले घर आकर कर्ज दे जायेंगे। आपको किसी प्रकार की जोड़-तोड़ करने की जरूरत ही नहीं। इसी बात को लेकर उनकी पत्नी ने भी दबाव बनाना शुरू कर दिया। भोले-भाले शमशेर सिंह जी अपनी पत्नी और बच्चो को खुशियाँ देने के लिये उनकी इस मांग के आगे झुक गये। 

अगले दिन से ही बेटे ने कुछ लोगो से सलाह-मशविरा करते हुए घर बनवाने का काम शुरू करवा दिया। घर बनाने के लिये बैंक से मोटा कर्ज भी शमशेर सिंह ने लेकर अपने बेटे को दे दिया। जैसे-जैसे शमशेर सिंह जी का सेवानिवृत्ति का समय नजदीक आने लगा, बेटे ने काम और तेज करवा दिया ताकि सरकारी बंगला छोड़ कर सीधा अपने घर में ही प्रवेश किया जा सके। एक दिन अचानक बैठे हुए शमशेर सिंह ने अपनी पत्नी से कहा कि हम लोग कई सालों से घूमने नही गये। अगर तुम चाहो तो रिटायर होने से पहले हम सरकारी खर्चे पर घूमने जा सकते हैं। बहू और बेटे ने कहा कि नेकी और पूछ-पूछ। इससे अच्छी बात और क्या हो सकती है। जब तक आप लोग घूम-फिर कर वापिस आओगे तब तक घर भी बन कर तैयार हो जायेगा। उसने झट से एक ट्रैवल एजेंसी से कह कर उनका बढ़िया सा घूमने का प्रोग्राम बना दिया। टूर के दौरान बहू-बेटे से घर बनने के बारे में बात लगातार होती रही। कुछ समय बाद जब शमशेर सिंह जी अपना टूर पूरा करके वापिस आये तो अपने आलिशान घर को देख कर फूले नही समा रहे थे। अच्छे से सारे घर को निहारने के बाद इन्होने घर में प्रवेश किया। 

घर की खूबसूरती देखने के बाद शमशेर सिंह जी ने पूछा कि हमारा कमरा कौन सा है? बेटे ने कहा कि यह आप क्या कह रहे हो? सारा घर ही आपका है, आप अलग से कमरे की क्या बात कर रहे हो? बहू ने जब खाना खाने के लिये कहा तो शमशेर सिंह जी ने कहा कि मैं काफी थका हुआ हूँ। जरा पहले नहा लूं फिर आराम से खाना खायेंगे। इसी के साथ उन्होंने कहा कि जरा हमारा सामान हमारे कमरे में रखवा दो। इतना सुनते ही शमशेर जी का बेटा फोन का बहाना बना कर बाहर निकल गया। बहू भी कमरे के नाम पर टाल-मटोल करने लगी। शमशेर सिंह की पत्नी ने कहा कि क्या बात है? परेशान क्यूं हो रही हो? बहू ने घर के ड्राईवर को बुला कर इशारे से कहा कि इनका सामान घर के पीछे बने हुए कमरे में ले जाओ। इतना सुनते ही शमशेर सिंह जी और उनकी पत्नी के पैरों तले जमीन खिसक गई। बहू ने सफाई देते हुए कहा कि असल में जो कमरा आपके लिये बनाया था उसमें आपके बेटे ने अपना दफ़्तर बना लिया है। इस वजह से आपके लिये घर के पीछे अलग से एक कमरा बनवाना पड़ा है। सारी उम्र शानोशौकत के साथ सरकारी बंगले में राज करने वाले शमशेर सिंह जी चुपचाप घर के पिछवाड़े में नौकरों के लिये बने हुए कमरे में रहने के लिये चले गये। 

कमरे में दाखिल होते ही शमशेर सिंह की पत्नी ने उनसे कहा कि मैं सारी जिंदगी आपको समझाती रही हूँ कि इतने नर्म मत बनो नहीं तो एक दिन यह दुनियां आपको खा जायेगी। यह आपके सीधेपन का ही नतीजा है कि आज आपके अपने बहू-बेटे आपको इस तरह से नचा रहे हैं। शमशेर सिंह ने अपनी पत्नी को दिलासा देते हुए कहा लगता है, तूने वो कहावत नही सुनी कि अगर कोई आपका दिल दुखाए तो उसका बुरा मत मानो, क्योंकि यह कुदरत का नियम है कि जिस पेड़ पर सबसे ज्यादा मीठे फल होते हैं, उसी को सबसे अधिक पत्थर लगते हैं। शमशेर सिंह जी के धैर्य को सलाम करते हुए जौली अंकल उनके बेटे और बहू को बताना चाहते हैं कि मां-बाप तो वो अनमोल नगीने होते है जो हमें मुफ्त में मिलते हैं, मगर इनकी कीमत का उस दिन पता चलता है जब यह खो जाते हैं। आप लोगो ने जिस प्रकार छल-कपट करके अपने माता-पिता से उनका नया घर छीना है, उसके बदले में आज से ही सावधान हो जाओ क्योंकि बहुत जल्द आपका भी नया घर कोई न कोई आपसे छीन सकता है। 

Jolly Uncle
Email Id : jollyuncle@gmail.com
Website : www.jollyuncle.com

August 3, 2013

Poem on Animals and Birds in Hindi


(1)

हंसती मुस्काती है गुड़िया

गुन-गुन-गुन भौंरा मंडराता 
भौं-भौं करता कुत्ता आता
कूं-कूं करती कोयल गाती 
मीठा सा कोई गीत सुनाती।

टर-टर-टर मेंढ़क की बोली 
देखो वो बन्दर की टोली 
लम्बी पूँछ, गिलहरी छोटी 
कुतर-कुतर कर खाती रोटी।

तितली फूलों पर मंडराती
रंग बिरंगा नाच दिखाती 
चीं-चीं करती चिड़िया आती 
दाना चुग फुर्र से उड़ जाती।

डाल पे बैठा कौवा काला 
हिरण कितना भोला-भाला
जंगल में है शेर निराला 
बड़ी-बड़ी सी मूंछों वाला।

सब की अलग-अलग खूबियाँ 
जिनसे सुन्दर बनती दुनिया 
देख देखकर इन जीवों को 
हंसती मुस्काती है गुड़िया।

Monika Jain 'पंछी'
(03/08/2013)

(2)

जानवर

ये जानवर बेहतर हैं 
हम इंसानों से। 

नहीं करते ये शिकार
अपनी ही जाति के प्राणियों का 
अन्य जीवों पर वार के पीछे भी
होता है मकसद बस सुरक्षा
और पेट की भूख मिटाने का। 

पर हम मानव भरे हैं 
ईर्ष्या, लालच, द्वेष और स्वार्थ से 
जलते हैं हम अपनों के ही विकास से। 

प्रकृति से जुड़े ये जीव 
जीते हैं संयमित जीवन 
जितनी हो पेट की भूख 
उतना ही करते हैं भोजन। 

पर पैसे का भूखा मानव 
खोंप देता है खंजर 
अपने ही भाइयों के सीने में 
जहर भरा है इसके 
खून और पसीने में। 

मर गयी है हमारी संवेदना 
मर गया है हमारे भीतर का इंसान 
खुद को जानवर कहकर 
हम कर रहे हैं जानवरों का अपमान। 

Monika Jain 'पंछी'
(11/02/2013)

August 1, 2013

Story on Knowledge in Hindi

भूल

ज्ञानप्रकाश जी आज तकरीबन 35-40 साल बाद अपने पौते के साथ शहर से पैतृक गांव जा रहे थे। रास्ते में पुलिस वाले ने उनकी गाड़ी को रोककर चालान कटवाने को कहा। ज्ञान प्रकाश जी ने कहा कि भाई हमसे क्या भूल हो गयी है? पुलिस वाले ने अपनी भाषा में डांटते हुए कहा कि अब तुम गलती नही करोगे तो क्या हम चालान काटने के लिये तुम्हारी गलती का इंतजार करते रहेंगे? जैसे-तैसे इस किस्से को निपटा कर गांव की जमीन पर कदम रखते ही उनकी आखों से आंसू बहने लगे। उनके पोते ने थोड़ा हैरान होकर अपने दादा से कहा कि क्या बात है? आपकी तबीयत तो ठीक है? आप बच्चो की तरह क्यूं रो रहे हैं? ज्ञान प्रकाश जी ने आखें साफ करते हुए कहा, ‘बेटा मेरा सारा बचपन इस गांव की मिट्टी में खेलते हुए बीता है।’ पोते ने कहा, ‘तो क्या हुआ, आप तो बहुत हिम्मत रखते हो, आप जैसे इंसान की आखों में आसूं अच्छे नही लगते।’ बातचीत करते-करते ज्ञानप्रकाश जी की नज़र सामने लगे हाई स्कूल के बोर्ड पर पड़ गयी। चंद पल उसे अच्छे से निहारने के बाद ज्ञानप्रकाश जी ने अपने पोते से कहा कि बेटा मैंने अपनी स्कूल की सारी पढ़ाई इसी स्कूल से की थी। मैं जब इस स्कूल से पढ़ाई पूरी करके निकला था तो उस समय कभी सोचा भी नही था कि दौबारा इस गांव मे इतने अरसे तक आना ही ना होगा।

यदि तू बुरा न माने तो कुछ देर इस स्कूल के अंदर घूम आयें। पोते ने कहा, ‘लेकिन अब आपको यहां कौन पहचानता होगा? खामख्वाह अंदर जाकर समय बर्बाद करने वाली बात है।’ ज्ञानप्रकाश जी ने कहा, ‘एक बार अंदर जा कर स्कूल देखने का बहुत मन कर रहा है।’ दादा के कहने पर उनका पोता उन्हें अंदर ले गया। ज्ञानप्रकाश जी थोड़ी देर इधर-उधर घूमने के बाद सीधा प्रिंसिपल के कमरे की ओर बढ़ गये। दरवाजे पर चपरासी ने रोकते हुए कहा कि साहब अभी मीटिंग में है, आप थोड़ा इंतजार करो। कुछ देर बाद प्रिंसिपल ने चपरासी को कह कर उन्हें अंदर आने को कहा। ज्ञान प्रकाश जी ने अपना परिचय देने के साथ बताया कि समाज की बेहतरी के लिये वे कहानियां और अनेक किताबे लिख चुके हैं। प्रिंसिपल ने कुछ मशहूर पुस्तकों के नाम लेकर जब पूछा कि क्या यह सारी आपकी ही लिखी हुई है? ज्ञानप्रकाश जी के हां कहते ही प्रिंसिपल साहब अपनी कुर्सी छोड़ कर उनके पैर छूने के लिये आगे आ गये।

ज्ञानप्रकाश जी ने भी आशीर्वाद देते हुए कहा कि आप जैसे अध्यापक को यहाँ देख कर सच में मन बहुत खुश हो गया। प्रिंसिपल ने हाथ जौड़ कर ज्ञानप्रकाश जी से कहा, ‘मैंने तो कभी सपने में भी नही सोचा था कि जिस महान लेखक की पुस्तकें हम बरसों से बच्चों को पढ़ा रहे हैं उस महान लेखक से अचानक इस तरह से मुलाकात हो जायेगी।’ इतनी देर में चाय-नाश्ता आ गया। चाय पीते-पीते प्रिंसिपल ने ज्ञानप्रकाश जी से कहा, ‘आपकी किताबों को एक नज़र देखते ही कोई भी कह सकता है कि आपने जिंदगी को बहुत ही करीब और अच्छे से समझा है। अगर आपकी इजाजत हो तो मैं आपसे एक बात जानना चाहता हूँ।’ ज्ञान प्रकाश जी ने चाय की चुस्की लेते हुए कहा, ‘आपके मन में जो कोई भी शंका हो आप खुलकर मुझ से बात कर सकते हैं।’ प्रिंसिपल ने कहा, ‘जीवन में सब कुछ पा लेने के बाद भी ऐसी कौन सी चीज है जो हमें चैन से नही रहने देती?’ बिना एक पल की देरी किये ज्ञान प्रकाश जी ने प्रिंसिपल साहब को कहना शुरू किया, ‘हमारी छोटी-छोटी गलतियां ही हमें जीवन में सबसे अधिक परेशान करती है। हम लोग अक्सर भूल कर बैठते हैं, जब हम यह मानने लगते हैं कि हम सब कुछ जानते हैं। जबकि असलियत तो यह है कि दुनियां में कोई भी इंसान ऐसा नही है जो सब कुछ जानता हो। इसी के साथ हमें यह नही भूलना चाहिये कि हर इंसान कुछ न कुछ जरूर जानता है। आमतौर पर हम एक और बड़ी भूल यह करते हैं कि हम किसी भी बात को आधा-अधूरा सुनते हैं, उसके चौथाई हिस्से को भी ढंग से नही समझते और उस बात पर बिना विचार किये झट से अपनी प्रतिक्रिया देने लगते हैं।’

अब प्रिंसिपल साहब ने कहा कि इस परेशानी से बचा कैसे जा सकता है? ज्ञान प्रकाश जी ने अपने ज्ञान का खज़ाना खोलते हुए कहा, ‘भूल छोटी हो या बड़ी उसे सुधारने का एक मात्र तरीका यही होता है कि उस विषय के बारे में पूर्ण रूप से ज्ञान प्राप्त किया जाये। वैसे सही समय और समझ दोनो एक साथ खुशकिस्मत लोगों को ही मिलते हैं। इतना तो आपने भी देखा होगा कि अक्सर समय पर समझ नही आती और समझ आने तक समय निकल जाता है। इसलिये जीवन में कभी भी दूसरों के दोष और कमियां ढूंढने की भूल मत करो, क्योकि जब तक आप ऐसा करते रहोगे उस समय तक आप किसी दूसरे की भूल तो क्या अपनी भूल भी नही सुधार पाओगे।’

ज्ञान प्रकाश जी से ज्ञान की झलक पाने के बाद जॉली अंकल को तो यही ज्ञान समझ आ रहा है कि उम्र भर यही भूल हम करते रहे हैं , धूल तो थी चेहरे पर और हम आईने को साफ करते रहे।

Jolly Uncle
Email Id : jollyuncle@gmail.com
Website : www.jollyuncle.com

July 22, 2013

Poem on Camel in Hindi

रेगिस्तान का जहाज : ऊंट 

रेगिस्तान का जहाज माना जाने वाला 
बन गया है उपेक्षा का शिकार 
मानव का था जो सच्चा साथी 
उसकी उपयोगिता हुई दरकिनार। 

ऊंट से मिलने वाला दूध 
करता असाध्य रोगों को दूर 
ऊन से बनते ढेरों सामान 
फिर हम क्यों हैं इतने क्रूर? 

ऊँटों को नहीं है कोई संरक्षण 
माँस के रूप में हो रहा है भक्षण 
पशुपालकों का नहीं कोई संगठन 
अंधी सरकार अपने में है मग्न। 

ऊँट पालक घुमक्कड़ ठहरे 
वोटों पर ना उनका प्रभाव 
वोट बैंक ना होने से 
उनकी नहीं कोई खैरख्वाह।

आओ नये विकल्प तलाशें 
पशुओं का हम करे बचाव 
अन्न, दूध पर भी होगी विदेशी निर्भरता 
समय रहते ना किया गर कोई उपाय। 

Monika Jain 'पंछी'
(22/07/2013)

13/10/2017 - नोट : कुछ सालों पहले पशु परिवार का हिस्सा हुआ करते थे। लेकिन जिस बेरहमी से आज पशु-पक्षियों को पाला जाता है, उसे देखकर मैं पशु पालन का भी पूर्ण समर्थन नहीं कर सकती। दूसरी ओर प्रकृति की चक्रीय व्यवस्था को देखते हुए मांसाहार कोई भी व्यक्ति ना करे यह अपेक्षा भी सही नहीं है। हम सभी एक दूसरे पर निर्भर हैं। लेकिन हमें जरुरी और गैर जरुरी आवश्यकताओं को पहचानने की जरुरत तो है ही। व्यक्तिगत स्तर पर यदि शाकाहार अपनाया जा सके तो जरूर अपनाया जाना चाहिए, लेकिन हम दूसरों पर प्रतिबन्ध नहीं लगा सकते। पर हाँ, जब पशु हमारी इतनी आवश्यकताएं पूरी करते हैं तो कम से कम उनके प्रति निर्दयता और हिंसा को कम से कम तो किया ही जा सकता है। पारिस्थितिकी तंत्र को देखते हुए विलुप्त हो रहे जानवरों को विशेष संरक्षण देना भी हमारा कर्तव्य है। इसके अलावा अपने स्वार्थों से इतर भी हमें उनके प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझना चाहिए।

Poem on Camel in English for Kids

Ship of Desert

The ship of desert is neglected today
The true companion of man
is considered useless nowadays.

It can move a long distance without water
It is known for its patience and endurance
It is gentle and very hardy
Played a critical role in the area of defense.

The milk of camel cures many diseases
The wool is used to make many accessories
It’s dung is used for fuel
As a mode of transportation heavy loads it carries.

No protection is given to camels
They are cut in slaughterhouses
There is no organization of cattlemen
as they are stroller, have no premises.

Cattlemen don't affect the vote bank
So they are neglected by government
For the conservation of camels
There are no laws and no amendments.

Let we search new alternatives
to protect these creatures
Otherwise we have to import
even milk and cereals from other places.

Monika Jain 'Panchhi'
(22/07/2013)

Camel is a very important animal of desert area. It is an important component of the ecosystem of deserts. Camels played a critical role in many fields as a faithful animal. With the changes in scenario, now needs of camels have decreased. That’s why this rare animal is being neglected by us. Earlier India’s rank was third in the world in terms of the number of camels. But now it has reached to the tenth position. Now camel’s life is completely in danger. All the initiatives taken by state and central government have proved inadequate to save this animal. The sad thing is that no special efforts are being made to handle this situation.

July 7, 2013

Bal Gangadhar Tilak Biography in Hindi

लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक

जीवन परिचय :
  • बाल गंगाधर तिलक का जन्म 23 जुलाई, 1856 को महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले के चिखली नामक गाँव में हुआ था। वे संस्कृत के प्रकांड विद्वान, गणितज्ञ, दार्शनिक, राष्ट्रवादी नेता, स्वतंत्रता सेनानी और समाज सुधारक थे।
  • उनका परिवार सुसंस्कृत ब्राह्मण परिवार था। उनके पिता का नाम गंगाधर रामचंद्र तिलक था जो एक लोकप्रिय शिक्षक थे। 
  • 15 वर्ष की आयु में उनका विवाह कर दिया गया। उनकी पत्नी का नाम तापी था जिसे बाद में सत्यभामा के नाम से जाना गया। 
  • 1876 में उन्होंने डेक्कन कॉलेज से बी. ए. ओनर्स की परीक्षा उत्तीर्ण की और 1879 में उन्होंने बम्बई विश्वविद्यालय से एल० एल० बी० की डिग्री प्राप्त की। 
  • वे मौलिक विचारों वाले संघर्षशील, परिश्रमी और परोपकारी व्यक्ति थे। वे स्वराज की मांग करने वाले पहले व्यक्ति थे।

 सामाजिक / राष्ट्रीय / साहित्यिक योगदान :
  • भारत में शिक्षा के स्तर को सुधारने के लिए 2 जनवरी, 1880 को उन्होंने विष्णु शास्त्री और नामजोशी के साथ मिलकर पूना में 'न्यू इंग्लिश स्कूल' शुरू किया। जिसमें बाद में उनके मित्र आगरकर और वी एस आप्टे भी शामिल हो गए। इसे बाद में 'डेक्कन एजुकेशन सोसाइटी' का रूप दिया गया। सहयोगियों से विचार ना मिलने के कारण 1890 में उन्होंने इस सोसाइटी से त्यागपत्र दे दिया। इसके बाद उन्होंने कानून की शिक्षा देना शुरू किया। उनका संस्थान छात्रों को हाईकोर्ट और वकालत की परीक्षा की तैयारी करवाता था।
  • 1896 में 'बम्बई प्रेसीडेंसी' में अकाल पड़ने पर तिलक राहत कार्यों में जुट गए। पूना में उन्होंने सस्ते अनाज की दुकाने खोलकर अकाल के कारण होने वाले दंगो को रोका। 1902 में पूना में प्लेग के फैलने पर उन्होंने 'हिन्दू प्लेग अस्पताल' शुरू किया और इसके लिए धन एकत्रित किया और लोगों की सेवा की।
  • तिलक जी ने 'मराठा दर्पण' और 'केसरी' नाम के समाचार पत्रों के माध्यम से अंग्रेजी शासन के विरुद्ध बिगुल बजाया। उन्होंने कहा, ‘‘केसरी निर्भयता एवं निष्पक्षता से सभी प्रश्नों की चर्चा करेगा। ब्रिटिश शासन की चापलूसी करने की जो प्रवृत्ति आज दिखाई देती है, वह राष्ट्रहित में नहीं है। ‘केसरी‘ के लेख इसके नाम को सार्थक करने वाले होंगे।” इसमें प्रकाशित कुछ लेखों की वजह से उन्हें जेल जाना पड़ा।
  • तिलक जी कांग्रेस के गरम दल के नेता थे। गरम दल में इनके साथ लाला लाजपतराय और विपिन चन्द्र पाल भी थे। इन्हें 'लाल बाल पाल' के नाम से जाना जाता था।
  • भारत के वायसराय लार्ड कर्जन द्वारा बंगाल का विभाजन करने का उन्होंने तीव्र विरोध किया। 
  • 1908 में प्रफुल्ल चाकी और खुदीराम बोस के बम हमले का समर्थन करने की वजह से इन्हें बर्मा (वर्तमान म्यांमार) की जेल में भेज दिया गया। मांडले जेल में उन्होंने 'गीता रहस्य' नामक पुस्तक लिखी जो उनकी सर्वोत्कृष्ट कृति है, जिसका कई भाषाओं में अनुवाद हुआ है। 
  • 'स्वराज्य मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है और इसे मैं लेकर रहूँगा' इस नारे के उद्गोष के साथ 1914 में इन्होंने 'इंडियन होमरूल लीग' की स्थापना की।
  • 1916 में उन्होंने मुहम्मद अली जिन्ना के साथ 'लखनऊ समझौता' किया। 
  • वे बाल विवाह और छुआछूत के विरोधी थे। उन्होंने हिंदी को राष्ट्रीय भाषा बनाने का समर्थन किया और लोगों को भारतीय संस्कृति और परंपरा से जोड़ने का प्रयास किया। उन्होंने स्वदेशी के प्रयोग और विदेशी वस्तुओं के बहिष्कार पर बल दिया। भारतीयों को एकसूत्र में पिरोने के लिए उन्होंने गणेशोत्सव और शिवाजी दिवस का शुभारम्भ किया।

 प्रमुख कृतियाँ :
  • गीता रहस्य
  • The Orion or The Researches Into the Antiquity of the Vedas
  • The Arctic Home of The Vedas

 पुरस्कार / सम्मान :
  • तिलक जी के कार्यों की वजह से उन्हें 'लोकमान्य' की उपाधि दी गयी। उन्हें 'हिन्दू राष्ट्रवाद का पिता' भी कहा जाता था।
  • महात्मा गांधी ने उन्हें 'आधुनिक भारत का निर्माता' और पंडित नेहरु ने उन्हें 'भारतीय क्रांति का जनक' कहा।

 मृत्यु :
  • 1 अगस्त, 1920 को बम्बई में उनकी मृत्यु हो गयी।
  • उन्होंने कहा था, ‘राष्ट्र की स्वाधीनता मुझे सर्वाधिक प्रिय है। यदि ईश्वर मुझे मुक्ति और स्वर्ग का राज्य दे तो भी मैं उसे छोड़कर ईश्वर से स्वाधीनता की ही याचना करूँगा।’
(07/07/2013)

04/11/2017 - नोट : बाल गंगाधर तिलक का यह चित्रण तत्कालीन समय की आवश्यकताओं तथा उस समय में उनके योगदान के अनुरूप किया गया है। निश्चित रूप से उनका कोई न कोई स्याह पक्ष भी रहा होगा जिसका  समावेश लेख में नहीं है। जिन्हें जानने वाले प्रकट कर सकते हैं। पुराना लेख है और कुछ बातों का अब जब मैं सही मतलब समझने लगी हूँ तो उनसे सहमत नहीं हूँ। जैसे 'हिंदी को राष्ट्रीय भाषा बनाने का समर्थन' -  तत्कालीन समय में सभी को जोड़ने के लिए यह शायद आवश्यक था लेकिन आज की परिस्थितयों में यह उचित नहीं है। हिंदी प्रेमियों को हिंदी का विकास और विस्तार अवश्य करना चाहिए, लेकिन इसे जबरन सब पर थोपा नहीं जा सकता। उन्हें मिलने वाला सम्मान जैसे  हिन्दू राष्ट्रवाद का पिता' - हिन्दू राष्ट्रवाद का जो विकृत वाला स्वरूप मुझे आज नज़र आता है, उसका समर्थन बिल्कुल नहीं किया जा सकता। यही बात परम्पराओं और संस्कृति और कुछ अन्य बातों के विषय में भी है। जिन पर मैंने आगे इस ब्लॉग में  कहीं चर्चा की है।  

July 1, 2013

Poem on Hindu Muslim Unity in Hindi

(1)

हिन्दू मुस्लिम जंग

लाशों के ढ़ेर पर बने मंदिर मस्जिद 
जिनकी बुनियाद है नफ़रत और जिद
जो इंसानियत की मौत के गवाह हैं 
जो हिन्दू मुस्लिम जंग से तबाह हैं।

एक ऐसी जंग 
जिसमें जीत ना हिन्दू की हुई
ना मुसलमान की 
हुई है बस हार 
इंसानियत और इंसान की।

ऐसा हिन्दू और मुसलमान होना 
जिसके लिए अपने भीतर का इंसान खोना 
दया, करुणा और प्रेम का खात्मा 
जहाँ धर्म के नाम पर मर गयी है आत्मा।

क्या नहीं बन सकता इंसान ऐसा 
ईश्वर जिसके दिल में बसता हो 
देखकर दूसरों का दर्द 
आंसू जिसकी आँख से छलकता हो। 

Monika Jain 'पंछी'
(01/07/2013)

(2)

क्या खुश होगा, तेरा अल्लाह, तेरा राम? 

हिंसा की आग में जल जाते हैं 
कितने ही मासूम आशियाने
कभी धर्म की ज्वाला 
कभी आग जाति के नाम पर
कभी क्षेत्रवाद की अग्नि ने जला दिए 
कितने ही घर। 

क्या तेरा जला 
क्या तूने जलाया
अंत में तो हमने बस 
मौत का मंज़र ही पाया। 

बस चीखें सुनाई दी एक सी
क्या हिन्दू, क्या मुसलमान 
खून भी था एक सा
हुई जिससे धरती लहूलुहान। 

अब रुक और सोच
क्या तुझसे यही धर्म कहता है?
निर्बल की हत्या 
आखिर कैसे तू सहता है?

क्या गीता, क्या रामायण-कुरान
सब में एक ही प्रभु, एक सा है ज्ञान
कि एक ही हैं बन्दे, उसके बस नाम अलग हैं 
इबादत है एक सी ही, बस जाप अलग हैं। 

अब रुक तू, ज़रा सोच 
क्या यही है तेरा इन्तकाम?
इस दर्द से, इस मंज़र से
क्या खुश होगा, तेरा अल्लाह, तेरा राम?
क्या खुश होगा, तेरा अल्लाह, तेरा राम?

Rishabh Goyal 
Kotdwar, Uttarakhand

In spite of the concept of secularism there are religion, caste, color and language intolerances in India. The virus of communalism has engulfed many people in our country. Since independence we are witnessing frequent hindu muslim riots. Earlier the british rulers and now the politicians are following the policy of ‘divide and rule’. No sincere efforts have ever made to fill the gap between these two major religious communities. As there is no hope from political side, so each and every human being should try at his/her level to overcome such issues.